To Find Something, Don't Look For It


Image of the Weekकुछ खोजने के लिए, उसे मत ढूंढो
- रॉबिन वॉल किमेरर

विमान के उड़ने और ज़मीन पर वापस उतरने के बीच, हममें से प्रत्येक एक अस्थायई निष्क्रियिता में हैं, हमारे जीवन के अध्यायों के बीच एक ठहराव की तरह। जब हम खिड़की को सूरज की चकाचौंध में घूरते हैं, तो परिदृश्य केवल एक सपाट प्रक्षेपण है, जिसमें पहाड़ भी बहुत ही छोटे जान पड़ते हैं। हमारे इस ऊपरी मार्ग के गमन के प्रति उदासीन, नीचे अन्य कहानियाँ प्रकट हो रही हैं। अगस्त की धूप में ब्लैकबरी पकते हैं; एक महिला एक सूटकेस पैक करती है और अपने दरवाजे पर झिझकती है; एक पत्र खोला जाता है और पृष्ठों के बीच से सबसे आश्चर्यजनक तस्वीर सामने आती है। लेकिन हम बहुत तेजी से आगे बढ़ रहे हैं और हम बहुत दूर हैं; सभी कहानियां हमसे बचकर निकल जाती हैं, सिवाय हमारी अपनी को छोड़कर।

हम अदना से निकट दृष्टि वाले इंसान हैं, जिनके पास न तो लंबी दूरी की तीक्ष्णता का रैप्टर का उपहार है, और न ही मनोरम दृष्टि के लिए एक मक्खी की-सी प्रतिभा। हालांकि, हमारे बड़े दिमाग के साथ, हम कम से कम अपनी दृष्टि की सीमाओं से अवगत हैं। बड़ी विनम्रता के साथ, जोकि हमारी प्रजातियों में बहुत कम मिलती है, हम स्वीकार करते हैं कि हम बहुत कुछ नहीं देख सकते हैं, और इसलिए दुनिया को देखने के लिए हम अलग तरीके ईजाद करते हैं। इन्फ्रारेड सैटेलाइट इमेजरी, ऑप्टिकल टेलिस्कोप और हबल स्पेस टेलीस्कोप हमारे दृश्य क्षेत्र में विशालता लाते हैं। इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोप हमें अपनी कोशिकाओं के दूरस्थ ब्रह्मांड में भटकने देते हैं।

लेकिन बीच के स्तर पर, बिना बाहरी सहायता के, हमारी इंद्रियां अजीब रूप से सुस्त लग रही हैं। परिष्कृत तकनीक के साथ, हम यह देखने का प्रयास करते हैं कि हमारे परे क्या है, लेकिन अक्सर अपने करीब के असंख्य शानदार पहलुओं से बिलकुल अनजान रहते हैं। हमें लगता है कि हम देख रहे है जब कि हम केवल सतह को खरोंचते हैं। इस मध्य पैमाने पर हमारी तीक्ष्णता कम होती है, हमारी आंखों की विफलता के कारण नहीं, बल्कि मन की इच्छा के कारण। क्या हमारे उपकरणों की शक्ति ने हमें अपनी अप्रशिक्षित आँखों को अविश्वास करने के लिए प्रेरित किया है? या क्या हम उन चीज़ों से उदासीन हो गए हैं जिनको अनुभव करने के लिए किसी तकनीक की नहीं केवल समय और धैर्य की जरूरत हो? मनोयोग अकेले सबसे शक्तिशाली आवर्धक लेंस को प्रतिद्वंदिता दे सकता है।

मेरे परिचित, चेयेन जनजाति के एक बुजुर्ग, ने एक बार मुझसे कहा था कि किसी चीज़ को खोजने का सबसे अच्छा तरीका है कि उसकी तलाश न करना। यह एक वैज्ञानिक के लिए एक कठिन अवधारणा है। लेकिन उसने कहा कि खुद को संभावना के लिए खुला रख कर अपनी आंख के कोने से बाहर देखो, और जो आप चाहते हैं वह प्रकट होगा। अचानक उसका रहस्योद्घाटन, जिसके लिए मैं केवल कुछ पल पहले अंधा था, मेरे लिए एक उदात्त अनुभव है। मैं उन क्षणों को फिर से देख सकता हूं और अभी भी उस अनुभव का अहसास कर सकता हूं। मेरी दुनिया और दूसरे की दुनिया के बीच की सीमाओं को अचानक स्पष्टता के साथ पीछे धकेल दिया जाता है जो एक अनुभव है जो विनम्र और आनंदित करता है।

मनन के लिए मूल प्रश्न: आप इस धारणा से कैसे सम्बद्ध हैं कि किसी चीज़ को खोजने का सबसे अच्छा तरीका है उसकी तलाश न करना? क्या आप एक ऐसे समय की व्यक्तिगत कहानी साझा कर सकते हैं, जिसमें संभावना के लिए खुलापन रखने पर, रहस्योद्घाटन का उदात्त अनुभव हुआ हो? संभावना के लिए खुला रहने में आपकी क्या मदद करता है?

रॉबिन वॉल किम्मेर एक वनस्पति विज्ञानी और कवि हैं। उपरोक्त अंश उनकी पुस्तक: गैदरिंग मॉस: ए नेचुरल एंड कल्चरल हिस्ट्री ऑफ मोसेस से हैं
 

Robin Wall Kimmerer is a botanist and a poet. Excerpts above are from her book: Gathering Moss: A Natural and Cultural History of Mosses


Add Your Reflection

21 Past Reflections