The Messiah Is One Of Us

Author
Megan McKenna
53 words, 18K views, 10 comments

Image of the Weekमसीहा हम में से एक है
मेगन मक्केना

एक समय की बात है, एक मठ के बोहोत ज्ञानी मठाधीश थे और उनके उतने ही ज्ञानी रब्बी (यहूदी धर्मगुरु) मित्र थे। ये सुदूर गाँव की बात है, बोहोत पहले की, जब परिस्तिथियाँ विकट हुआ करती थीं और कभी-कभी बोहोत ख़राब हो जातीं थीं। मठ के सभ्यों की संख्या कम हो रही थी, और मठ के साधुओं का जीवन भय, दुर्बलता और व्याकुलता से भरा हुआ था। मठाधीश अपने मित्र के पास गए और रोये। उनके मित्र, रब्बी ने उनको सांत्वना दी और कहा " मेरे भाई, तुम्हे ये जानना चाहिए। यहूदी समाज में हमें बोहोत पहले से पता है के मसीहा हम में से एक है। "

"क्या", मठाधीश ने आश्चर्य से कहा, "मसीहा हम में से एक है ? ये कैसे हो सकता है?"

पर रब्बी ने जोर दिया के ऐसा ही है, और मठाधीश अपने मठ को वापस चले गए, सोचते और प्रार्थना करते हुए, आश्वासित और उत्साहित। मठ में, बगल से जाते साधु को देखकर मठाधीश सोचते के क्या यही तो नहीं है। प्रार्थनालय, में आती आवाज को सुनते और बोलने ने वाले के चेहरे को ध्यान से देखते के क्या यही तो नहीं है। मठाधीश हमेशा से दयावान थे, पर अब उन्होंने अपने सारे साधु-भाइयों को और भी करुणा, सम्मान और आदर देना शुरू कर दिया था। जल्दी ही, ये सभी के ध्यान में आने लगा। एक साधु-भाई ने मठाधीश के पास आकर उनसे पूछा के उन्हें क्या हो गया है।

थोड़ा पूछने पर, मठाधीश ने उन्हें बताया जो रब्बी ने कहा था। जल्द ही वे साधु भी सभी साधु-बहियों को आदर और सम्मान के साथ देखने लगे। बात आग की तरह फैल गयी : मसीहा हम में से ही कोई एक है। अचानक पूरा मठ पूजा, प्रेम और कृपा से जिवंत हो उठा। साधुओं का आध्यात्मिक जीवन गहरा, उत्साही और समर्पित हो गया, [...] सेवाएं जिवंत और ऊर्जावान होने लगीं। जल्दी ही पास के गाँव-वाले धार्मिक-सेवाओं में आने लगे, श्रवण, चिंतन और मनन करने लगे, उन में से कई लोगों ने मठ का जीवन अपना लिया। उनकी शपत-विधि के बाद उन्हें रहस्य बताया गया, वह सत्य के उनका जीवन उनके ऊर्जा के स्रोत पर आधारित था, साथ-मिलकर जीने मे : मसीहा हम में से एक है।

मठ की बोहोत प्रगति हुई, और मठ के साधु एक दूसरे की नज़रों में और ईश्वर की नज़रों में ज्ञान और कृप में बोहोत आगे बढ़े। और वे अभी भी यही कहते है के अगर आप इस जगह पहुंचें जहाँ जीवन है, आशा है, करुणा और कृपा है, तो रहस्य एक ही है : मसीहा हम में से एक है।

मनन के लिए बीज प्रश्न:
आप इस बात को कैसे समझते हैं के, आशा और करुणा के लिए जगह बनना इस बात पर निर्भर है के हम के दूसरे को कितनी गहराई से देखते हैं?
क्या आप एक निजी अनुभव बाँट सकते हैं, जब आप ने किसी में गहरी संभावनाएं देखीं हों या किसी ने आप में?
किसी को गहराई से देखने में आप को क्या मदद करता है?


या लेख मैरी : शैडो ऑफ़ ग्रेस, मेगन मक्केना द्वारा, से उद्धृत है।

 

Excerpted from Mary: Shadow of Grace by Megan McKenna.


Add Your Reflection

10 Past Reflections