With Fullness in Life, Everything is Possible

Author
Facundo Cabral
44 words, 15K views, 13 comments

Image of the Week२० जुलाई २०१६

आप उदास नहीं हैं ; आप विचलित हैं
- फकंदो कबरल

आप उदास नहीं हैं; आप विचलित हैं। आप का मानना है कि आप ने कुछ खो दिया है, जो कि असंभव है, क्यूँकि हर वस्तु जो आपके पास है आप को दी गयी थी। आपने अपने सर का एक भी बाल नहीं बनाया है इसलिए आप किसी भी वस्तु को अपना नहीं कह सकते। इसके साथ - साथ, जीवन आप से चीज़ें छीनता नहीं बल्कि उनसे आपको मुक्त करता है। जीवन आप को हल्का बनाता है जिससे आप ऊँचा उड़ सकें और पूर्णता तक पहुँच सकें। जन्म से लेकर मृत्यु तक जीवन एक पाठशाला है, और इसलिए वो कठिन परिस्तिथियाँ जिन्हे हम समस्या कहते हैं वास्तव में पाठ हैं जो हमें सीखने हैं।

आप ने किसी को खोया नहीं है; जिनकी मृत्यु हो गयी है वे बस आप से आगे चल रहे हैं, क्यूंकि हम सब एक ही जगह जा रहे हैं। इसके अलावा, उनकी शुभकामनाएं और प्रेम तो अभी भी आपके दिल में हैं। कौन कह सकता है के यीशु मर चुके हैं? मृत्यु जैसा कुछ है ही नही केवल एक गति है। और उस पार कुछ गज़ब लोग आपका इंतज़ार कर रहे हैं: गांधी, मिचेल-एंजेलो, व्हिटमैन, संत ऑगस्टिन, मदर टेरेसा, आपकी दादी और मेरी माँ, जिनका मानना था के गरीबी प्रेम के करीब है, क्यूंकि पैसा हमारा ध्यान बोहोत सारी चीज़ों में उलझा देता है, और हमें भयभीत और शंकाशील बना देता है।

सिर्फ वही काम करें जो आपको पसंद हो और आप खुश रहेंगे; वो लोग जो अपना मन-पसंद काम कर सकते हैं भाग्यवान हैं और जरूर सफल होंगे, सफलता जरूर आएगी, क्यूंकि जो होना चाहिए वो जरूर होगा पर स्वाभाविक सहजता से। कोई भी काम आपकी जिम्मेदारी है या एहसान चुकाने के लिए न करें बल्कि प्रेम के लिए करें। केवल तभी आपके जीवन में पूर्णता आएगी, और पूर्णता से सब कुछ संम्भव है; और एकदम सहजता से संभव होगा क्यूंकि आपको जो प्रेरित कर रहा होगा वह जीवन का प्राकृतिक बल होगा, वही जीवन बल जिसने मुझे बचाया जब विमान मेरी पत्नि और पुत्री सहित धवस्त हो गया, वही जीवन बल जिसने मुझे जिन्दा रक्खा जबकि मेरे डॉक्टरों का मानना था के मैं सिर्फ तीन या चार महीने ही जी पाउँगा।

अपने आप को अपराध-भाव, जिम्मेदारी और घमंड के भयंकर बोझ से मुक्त करें और जीवन के हर क्षण को गहराई से जीने के लिए तैयार हो जाएँ, जैसा के होना चाहिए।

आप उदास नहीं हैं, आपको बस थोड़ा व्यस्त होना चाहिए। उस बच्चे की मदद करें जिसे आपकी जरुरत है, और वो बच्चा आपके बच्चे का साथी बनेगा। बुज़ुर्गों की मदद कीजिये और आप के बुढ़ापे में जवान आपकी आपकी मदद करेंगे। इसके अतिरिक्त, दूसरों की सेवा करने से एक विशेष प्रकार के आनंद की प्राप्ति सुनिश्चित है, ठीक ऐसा आनंद जो आनेवाली पीढ़ी के लिए प्रकृति का जतन करने पर मिलता है। बिना गिनती के दीजिये और आप अनगिनत पाएंगे।

चिंतन के लिए कुछ बीज-प्रश्न :-

कुछ भी खोना असम्भव है - इस भाव से आप कैसे जुड़ते हैं ?
क्या आप अपना एक निजी अनुभव हमारे साथ बाँट सकते हैं जब आपने कुछ एहसान चुकाने के लिए नहीं बल्कि प्रेम के लिए किया था ?
ऐसा क्या है जो - विचलित होना ( ध्यान हटना ) उदासी का मूल है - ये सजगता बनाए रखने में आपकी मदद करता है ?

लेखक ग्वाटेमाला के कवि हैं। प्रस्तुत लेख यहाँ से उद्धृत है।


 

Facundo Cabral is a visionary Gautemalan poet. This passage is excerpted from here.


Add Your Reflection

13 Past Reflections