When My Father Faced An Emergency

Author
Nora Bateson
45 words, 6K views, 8 comments

Image of the Week

"जब मेरे पिता को आपातकाल का सामना करना पड़ा"
- नोरा बेटसन के द्वारा



एक बार किसी ने मुझसे पूछा था कि क्या मैंने कभी अपने पिता को आपातकालीन स्थिति में देखा है, और क्या मैं बता सकता हूँ कि उन्होंने इसका सामना कैसे किया। उस समय मैंने उत्तर दिया कि मैंने उन्हें कभी किसी खतरे में या आपात स्थिति में नहीं देखा। लेकिन बाद में मुझे याद आया कि मैंने देखा है। मेरे द्वारा उनकी आपातकाल स्तिथि याद न आने की वजह महत्वपूर्ण है।

हम कार में थे. मेरे घुड़सवारी पाठ के लिए जा रहे थे । उस समय हम कैलिफोर्निया के बिग सर में रहते थे। यदि आपको कभी हाईवे वन पर बिग सर समुद्रतट किनारे पर गाड़ी चलाने का आनंद या भय मिला है, तो आपको पता होगा कि दो लेन वाली सड़क की विशेषता एक तरफ विशालकाय पहाड़ और दूसरी तरफ़ एकदम सीधी खड़ी, मौत को मात देने वाली चट्टानें हैं जो प्रशांत महासागर तक गिरती हैं। हमारे पास एक पुरानी गंदी सफ़ेद वोक्सवैगन वैन थी। यह 70 का दशक था, हम एक हिप्पी परिवार थे और मैं लगभग 10 साल का एक लंबे पैरों वाला, टेढ़ा-मेढ़ा पहाड़ी बच्चा था। मैं पिछली सीट पर था, घूमने के लिए स्वतंत्र था क्योंकि उस समय सीट बेल्ट नहीं हुआ करते थे। मेरे पिता गाड़ी चला रहे थे, और हालाँकि यह बात इस कहानी का हिस्सा नहीं है, मैं बस यह कहना चाहता हूँ कि वह अब तक के सबसे खराब ड्राइवरों में से एक थे। वह हमेशा समुद्र में व्हेलों को देखने या आकाश में बाज़ पक्षियों को देखने में व्यस्त रहये थे । भयंकर !

जैसे ही हम तट की ओर बढ़े, हम सड़क के किनारे एक सहयात्री के पास से गुज़रे जिसने अपना अंगूठा बाहर निकाला हुआ था लिफ्ट माँगने के लिए। वह एक बड़े बैग वाला युवक था। एक यात्री. मेरे पिता, जो कभी मानवविज्ञानी थे, यात्रियों और आम तौर पर सभी लोगों में रुचि रखते थे। उन्हें सड़क पर लिफ्ट माँगने वाले लोगों को अपनी कार में बिठाना पसंद था। सहयात्रियों को अपने साथ बिठाना पसंद था। उन्हें अजनबियों से बातचीत करना पसंद था. तो हमने इस व्यक्ति को कार में बिठाया।

कुछ मिनट बाद जब हम गाड़ी चला रहे थे तो अचानक उस आदमी ने मेरे पिता के गले पर चाकू रख दिया। वह पैसे की मांग कर रहा था; वह आदमी उत्तेजना से भरा हुआ था ।

मुझे लगता है कि यह आपातकाल के योग्य घटना है। दो लेन की सड़क, जहां कार रोकने की कोई जगह नहीं है। पिछली सीट पर एक बच्चा, और यह मोबाइल टेलीफोन के आविष्कार से 30 साल पहले की बात है।

लेकिन मेरा ध्यान नहीं गया। मैंने आपातकाल नहीं देखा क्योंकि मेरे पिता की प्रतिक्रिया थी , प्रसन्नता से चाकू को देखने और फिर सहयात्री की आँखों में देखने और अपनी सबसे असामान्य अँग्रेज़ी भाषा में कहने की, “अच्छा नमस्ते, यहाँ क्या हो रहा है ?”

वह प्रामाणिक रूप से शांत और प्रसन्नचित्त थे।बातचीत के बाद (यानी एक चाकू और पैसों की माँग) इस हताश युवक में उनकी रुचि वास्तव में कई गुना बढ़ गई थी। मेरे पिता उनसे सवाल पूछने लगे. वह बिग सर में कैसे आया था? उसने खुद को इतनी मुसीबत में कैसे पाया? इन प्रश्नों के माध्यम से और, सबसे महत्वपूर्ण बात, प्रश्नों के लहजे के माध्यम से, मेरे पिता सुन रहे थे और सीख रहे थे कि कोई इस तरह के रास्ते पर कैसे आ सकता है। वह कोई मनोवैज्ञानिक चाल या तकनीक लागू नहीं कर रहे थे। ये कोई हेरफेर नहीं था. वह उस आदमी को शांत करने की 'कोशिश' नहीं कर रह थे। यह बस एक इंसान की दूसरे इंसान में दिलचस्पी थी। उस युवक में उनकी जिज्ञासा जागृत हुई और उनकी पूछताछ से यह बात प्रतिबिंबित हुई। उन्होंने चाकू नहीं देखा... उन्होंने चाकू के आगे एक कहानी वाले व्यक्ति को देखा।

अधिकांश लोगों की प्रतिक्रिया कैसी होगी? क्या वे लड़ेंगे, या क्या वे उसे तुरंत पैसे दे देंगे ? क्या वे उसे बहलाने की कोशिश करेंगे? वे कौन सी सम्भावनाएँ हैं जो तुरंत सामने आती हैं? हममें से अधिकांश के लिए, हमारे बगल में चाकू एक घबराहट का क्षण होगा। यह एक आपातकाल था. लेकिन किसी वजह से ऐसा लग नहीं रहा था. वैन की पिछली सीट पर एक यात्री के रूप में मैंने उनका आपस में व्यवहार देखा और कार में एक सेकंड के लिए भी डर महसूस नहीं हुआ। नाटक में कोई हलचल नहीं थी, साँसों की कोई छटपटाहट नहीं थी, ख़तरे का कोई संकेत ही नहीं था। मैं अभी भी उस दोपहर को जीवन के लिए ख़तरा नहीं मानता, हालाँकि ऐसा था ज़रूर।

आधे घंटे और गाड़ी चलाने के बाद हम एक ऐसी जगह पर पहुँचे जहाँ हमें अपने सहयात्री को उतारना था और मुझे घुड़सवारी सिखाने के लिए ले जाना था। जब हम सड़क से हटे तो मेरे पिता ने अपना बटुआ खोला और युवक को 20 डॉलर का एक नोट दिया। उन्होंने कार में गिरे हुए कागज के एक टुकड़े पर हमारे घर का फ़ोन नंबर लिखा और उस व्यक्ति को गले लगाया। मेरे पिता ने सुझाव दिया कि अगर तुम कभी मुसीबत में फँसो तो फोन करो। ये सदभावना का सिर्फ़ संकेत देने वाली ख़ाली ख़ाली उदारताएं नहीं थीं। वह यह दिखावा नहीं कर रहे थे । यात्री के लिए उन्होंने जो स्नेह और फ़िक्र महसूस की वह वास्तविक थी। मैं ऐसा महसूस कर सकता था, और निश्चित तौर पर, सहयात्री भी ऐसा महसूस कर सकता था। हम तीनों ने वीडब्ल्यू वैन में उस आधे घंटे से बहुत कुछ सीखा।

आज जब मैं उस स्थिति को देखता हूं तो मैं केवल इतना ही कह सकता हूं कि मुझे आशा है कि एक दिन मैं संदर्भ (context) को उसी तरह देख सकूंगा जैसा मेरे पिता ने देखा था। जब यह कहानी घटित हुई तब वह युवा नहीं थे। चाकू की नोक से आगे और अधिक देखने का अभ्यास करते करते वह शायद 74 वर्ष के हुए थे। मेरा मानना ​​है कि समय लगता है ये समझ आने में कि किसी गंभीर परिस्थिति की प्रतिक्रिया जटिलता(complexity) में से उपजे प्रेम के साथ देने में या शायद इसका ठीक उल्टा होता है:जटिलता जो प्रेम से उत्पन्न होती है?

शायद इस लूप की कोई शुरुआत नहीं है. मैं अपनी प्रतिक्रियाओं पर ध्यान देने से शुरुआत करूंगा, और जिस जटिलता पर मैं प्रतिक्रिया कर रहा हूं, जवाब दे रहा हूँ , उस की विशाल और गहरी धार (edges) की खोज करूंगा और उसे परस्पर सीख ( mutual learning) में बदल दूंगा।



मनन के लिए मूल प्रश्न: आप उस प्रेम को कैसे समझते हैं जो जटिलता से उत्पन्न होता है, या उस जटिलता को जो प्रेम से उत्पन्न होती है? क्या आप कोई निजी कहानी साझा कर सकते हैं जब आप किसी खतरनाक स्थिति का स्नेह और वास्तविक जिज्ञासा के साथ जवाब देने में सक्षम थे? 'केवल चाकू की नोक से आगे और अधिक देखने' में आपको किस से मदद मिलती है?


 

Excerpted from here.


Add Your Reflection

8 Past Reflections