Blessings for Earth-Healers

Author
Starhawk
36 words, 16K views, 12 comments

Image of the Week२७ जुलाई २०१६

पृथ्वी-चिकित्सकों के लिए आशीर्वाद
- स्टारहॉक

हम उन सभी लोगों को धन्यवाद देते हैं जो अपने जीवन में छोटे या बड़े तरीकों से पृथ्वी के घाव भरने और उसकी रक्षा करने के लिए प्रेरित हैं। वानस्पतिक खाद बनाने वाले को, माली को, कीड़े और मशरूम का प्रजनन करनेवालों को, मिट्टी-निर्माताओं को, हवा और पानी शुद्ध करनेवालों को, उन सभी को जो दूसरों की फैलाई हुई गंदगी साफ़ करते हैं आशीर्वाद है। पेड़ लगाने और उनकी रक्षा करनेवालों को, जंगल को बचाने और पुनर्जिवित करनेवालों को आशीर्वाद है। धरती के कटाव को रोकनेवालों को, सैल्मन और दूसरी मछलियों को जिलाने-वालों को, जो औषधियों की रक्षा करते हैं और जिन्हें जंगली-पौंधों की विद्या का ज्ञान है उन्हें आशीर्वाद है। शहरों को स्वस्थ करने और उनको उत्साह, रचनात्मकता और प्रेम से जीवित करनेवालों को आशीर्वाद है। उन सभी को आभार और आशीर्वाद है जो लालच के खिलाफ खड़े हैं, जिन्होंने अपने आप को खतरे में डाला है, जिनको चोट लगी है, जिनका खून बहा है और जिहोने ने धरती की सेवा में अपने प्राण न्यौछावर कर दिए हैं।

सभी पृथ्वी-चिकित्सकों को स्वास्थ्य प्राप्त हो। वे धरती के लिए सच्चे प्रेम से प्रेरित हों। वे अपने डर को जाने पर उसके कारण रुकें नहीं। वे गुस्से से प्रेरित हों पर खुद गुस्से में आग न बन जाएं। वे अपने शोक का सम्मान करें पर अपने दुःख से लाचार न हो जाएं। वे अपने डर, क्रोध और शोक को करुणा और वे जिससे प्रेम करते हैं उसकी सेवा करने की प्रेरणा में परिवर्तित करें। उन्हें अपना कार्य करने के लिए मदद, संसाधन, साहस, भाग्य, शक्ति, प्रेम, स्वास्थ्य और आनंद प्राप्त हो। वे सही तरीके से, सही जगह पर सही समय हों। वे बड़ी जागृति लाएं, वे धरती की आवाज़ सुने, असंतुलन को संतुलन में परिवर्तित करें, नफ़रत और लालच को प्रेम में परिवर्तित करें। धन्य हो, पृथ्वी के चिकित्सकों।

चिंतन के लिए कुछ बीज-प्रश्न :-
सभी पृथ्वी-चिकित्सकों को स्वास्थ्य प्राप्त हो - आप इस भाव से कैसे जुड़ते हैं ?
क्या आप अपना एक निजी अनुभव बता सकते हैं जब आपको धरती के घाव भरने के साथ-साथ अपने घाव भी भरने थे ?
आप को पृथ्वी-चिकित्सकों के प्रति आभार का भाव अनुभव करने में क्या मदद करता है ?

प्रस्तुत लेख स्टारहॉक द्वारा लिखी पुस्तक The Earth Path से उद्धृत है ।
 

Excerpted from The Earth Path by Starhawk.


Add Your Reflection

12 Past Reflections