Compassion: an Objective Form of Empathy

Author
Jeff Weiner
22 words, 21K views, 8 comments

Image of the Week







करुणा: सहानुभूति का एक निष्पक्ष रूप
-- जेफ वाइनर (३० सितम्बर, २०१५)

जैसा कि दलाई लामा बताते हैं कि अगर आप एक रास्ते पर चले जा रहे हों और आप देखें कि आपके सामने कोई व्यक्ति एक चट्टान के नीचे दबा जा रहा है, तो जो सहानुभूति की प्रतिक्रिया आपके अंदर उठेगी, वो आपको भी वही कुचले जाने की घुटन का अहसास कराएगी और आपको मदद करने के काबिल नहीं छोड़ेगी। पर करुणामयी प्रतिक्रिया आपको उस पीड़ित व्यक्ति जैसा महसूस कराएगी, और आप सोचेंगे कि वह व्यक्ति कितनी भयंकर पीड़ा का अनुभव कर रहा होगा इसलिए आपके बस में जो भी होगा आप उस चट्टान को हटाने के लिए करेंगे और उसकी पीड़ा को दूर करेंगे। दूसरे शब्दों में, करुणा सहानुभूति का एक अधिक निष्पक्ष रूप है। चीज़ों को स्पष्ट रूप से किसी और व्यक्ति के दृष्टिकोण से देख पाने का यह विचार दूसरों के साथ संबंध बनाए रखने के लिए अमूल्य हो सकता है, विशेष रूप से तनावपूर्ण स्थितियों में।

उदाहरण के लिए, जब हम किसी से एकदम असहमत होते हैं, तो हम में से ज़्यादातर लोगों की चीज़ों को केवल अपने नज़रिये से देखने की प्रवृत्ति होती है। ऎसी स्थितियों में, कुछ लोग तुरंत यह मान लेंगे कि सामने वाला व्यक्ति अज्ञानी है और/या उसके इरादे नेक नहीं हैं। आपका मन तुरंत यह विचार बना लेता है, “वे मुझसे असहमत कैसे हो सकता है?”

इन परिस्थितियों में, यह समझने के लिए एक मिनट निकाल पाना बहुत रचनात्मक हो सकता है कि दूसरा व्यक्ति जिस निष्कर्ष पर पहुंचा है, वह वहां क्यों पहुंचा। उदाहरण के लिए, उनके वातावरण में ऐसा क्या है जिसने उन्हें उस निष्कर्ष पर पहुंचने के लिए मज़बूर किया होगा? क्या उनके पास उपयुक्त निर्णय लेने के लिए उचित अनुभव हैं? क्या वो किसी विशेष परिणाम से घबड़ा रहा है जो कि हमें दिखाई नहीं दे रहा? अपने आप से किया यह प्रश्न और उससे भी अधिक महत्त्वपूर्ण है दूसरे व्यक्ति को किया यह सवाल, जो स्थिति अन्यथा चुनौतीपूर्ण हो सकती थी, उसे कुछ सिखा पाने के क्षण और सही मायने में एक सहयोगी अनुभव में बदल देगा।

विचार के लिए कुछ मूल प्रश्न: करुणा सहानुभूति का एक निष्पक्ष रूप है, आप इस धारणा से क्या समझते हैं? क्या आप कोई व्यक्तिगत अनुभव बांटना चाहेंगे जब आप किसी चुनौतीपूर्ण स्थिति को कुछ सिखा पाने के क्षण में बदल पाएं हों? ऎसी कौन सी साधना है जो आपको अपने सोचने के तरीके से बाहर निकाल कर दूसरे दृष्टिकोणों को देख पाने में मदद करती है?

जेफ वाइनर लिंक्ड इन के सी ई ओ है। यह उनके लेख 'करुणामय प्रबंधन' (कम्पैशनेट मैनेजमेंट) का एक अंश है।
 

Jeff Weiner is the CEO of Linked In.  This is an excerpt from his article on 'Compassionate Management'.


Add Your Reflection

8 Past Reflections