If There Is No Self, Whose Arthritis Is This?

Author
Sylvia Boorstein
88 words, 9K views, 15 comments

Image of the Weekअगर कोई स्वयं नहीं है, तो यह किसका गठिया है?
- सिल्विया बूरस्टीन

"यदि कोई स्वयं नहीं है, तो यह किसका गठिया है?", दर्जन भर सवालों - जो मेरे ईमेल में नियमित रूप से दिखाई दे रहे हैं - की सूची में से एक ये है। मुझे लगता है कि दुनिया की सभी बीमारियों में से, यह गठिया की पसंद है, जो इस बयान को विशेषकर हास्यास्पद बनाता है। यह निस्वार्थता की हमारी समझ का थोड़ा मज़ाक भी उड़ा रहा है। चूंकि मजाक करना अपमानजनक है, इसलिए जब भी मैं इसे पढ़ती हूं, और मुझे हँसी आती है, तो लगता है कि शायद मैं आध्यात्मिक रूप से गलत कर रही हूं। हालांकि, मुझे लगता है कि यह धर्म के बारे में मजाक नहीं है: यह शब्दों से खिलवाड़ है। अपने खुद के संदर्भों में, स्वयं और बगैर-स्वयं, बिना अहंकार और मजबूत अहंकार, बिना जुंबिश के, पूरी तरह से समझने योग्य हैं।

पच्चीस साल पहले, जब मैंने सचेतन का अभ्यास शुरू किया, तो मुझे याद है कि मेरे शिक्षकों ने "अनुभव की तीन विशेषताओं" का वर्णन करते हुए कहा कि मुझे अपने लालच, घृणा और भ्रम की आदतों से अपने मन को मुक्त करने के लिए प्रत्यक्ष रूप से मुठभेड़ की आवश्यकता थी। नश्वरता के बारे में अंतर्दृष्टि मुझे उचित लगी। मैंने देखा कि कैसे चीजें हमेशा बदल रही थीं, समय बीत रहा था, कैसे एक घटना का प्रभाव समय बीतने के साथ बदल गया। दुख भी मुझे समझ में आया। मैं समझा, कम से कम बौद्धिक रूप से, तृष्णा का दर्द। लेकिन मुझे समझ नहीं आ रहा था कि कोई स्थायी स्व न होना क्या है। "मेरे शिक्षक गलत हैं," मैंने सोचा। "यह कौन है, यहाँ, मेरे अंदर जो यह जीवन जी रहा, अगर मैं नहीं। यह मेरा शरीर है और मेरे विचार और मेरी कहानी है।" मुझे याद है कि मुझे यकीन है कि मैं सही थी और मेरे शिक्षक गलत थे, लेकिन मुझे धर्म के बारे में बाकी सब कुछ इतना पसंद था कि मैंने फैसला किया कि मैं इसे एक खुला प्रश्न छोड़ सकती हूं।

इस एहसास के अलावा कि, "यहाँ कोई है जो इस कहानी का मालिक है," मैंने एक मनोवैज्ञानिक के रूप में अपना प्रशिक्षण लिया था। मुझे विश्वास था, और मैं अभी भी करती हूं, कि एक अलग भावना अहंकार - "यह मैं हूं। ये मेरे कौशल हैं। मैं उन्हें अन्य लोगों से भरी दुनिया में सक्षम रूप से उपयोग करता हूं। मैं अपना ख्याल रख सकता हूं" - एक स्वस्थ भावनात्मक विकास का महत्वपूर्ण हिस्सा है। "मैं मैं हूं, तुमसे अलग," वह जागरूकता है जो नैतिकता की भावना के गठन के लिए महत्वपूर्ण है। "मैं जीवित प्राणियों को नुकसान पहुंचाने से बचने के लिए संकल्पना करता हूं," में खुद के अलावा अन्य प्राणियों की समझ की आवश्यकता होती है, जो स्वयं को पसंद करते हैं, और पीड़ा को महसूस करते हैं। और यह कहने में सक्षम होना कि, "मैं उसकी मां हूं," या, "मैं अगले मंगलवार को आपकी कक्षा को पढ़ाऊंगा," या, "यह वह जगह है जहां मैं रहता हूं," उपयोगी है। ये "मैं " समस्याएँ नहीं हैं। वे अहंकार-उपकरण हैं जिनके साथ हम अपने जीवन का प्रबंधन करते हैं। वे स्थितियों का वर्णन करते हैं, एक अलग, अपरिवर्तनीय इकाई नहीं।

"मैं" जो एक समस्या है वह "मैं" एक कहानी है जो खुद को अलग करती है और दुख में फँसती है।

यहाँ एक उदाहरण है। मैंने अपने पति से एक ऐसी अवधि के दौरान कहा था जब हम दोनों एक शिक्षक के साथ अध्ययन कर रहे थे, जिन्होंने गैर-दोहरी जागरूकता पर जोर दिया था, "मैं एक व्यक्ति-विशेष पर बहुत गुस्सा हूं और मुझे विश्वास नहीं हो रहा है कि उसने मेरे बारे में क्या क्या कहा।" उन्होंने कहा, "वह 'मैं' कहां है जो नाराज है?" तो मुझे उस पर गुस्सा आ गया। मैंने कहा, "आप और मैं दोनों जानते हैं कि यहाँ कोई 'मैं' नहीं है और न ही 'मैं' वहाँ है। लेकिन क्रोध का अस्तित्व है!" अगर मैं परेशान नहीं होता, तो मैंने देखा हो सकता है कि एक ठोस, स्थायी 'मैं' जो मैंने कहानी के साथ रखा था- "मुझे विश्वास नहीं हो रहा है कि उसने मेरे बारे में क्या क्या कहा" - जो मुझे लगातार पीड़ा पहुंचा रहा था। इसने एक 'मैं' का निर्माण किया, जो अपमानित हो चुका था, जो अब पीड़ित था। जरूरतों के साथ वाला "मैं " - किसी भी तरह की जरूरतों वाला "मैं" - पीड़ित हैं । वे किसी भी परेशानी के साथ पैदा होते हैं। वे गलतियाँ या आध्यात्मिक दोष नहीं हैं: वे सुराग देते हैं कि किसी चीज़ को ध्यान की आवश्यकता है। मन और शरीर के आरामदायक होने पर वे गायब हो जाते हैं। वे, बाकी सब की तरह, नश्वर हैं, स्वयं से खाली हैं, परिस्तिथियों के अनुसार उठते हैं और खत्म हो जाते हैं।

कुछ साल पहले दलाई लामा के एक व्याख्यान में एक युवा व्यक्ति ने कहा," ध्यान में बैठते समय मुझे बहुत दिक्कत होती है। मैं यह सोचता रहता हूं कि मैं खुशी के लायक नहीं हूं, कि मैं इसका अधिकारी नहीं हूं।" जाहिरा तौर पर, दलाई लामा ने आगे की ओर झुकते हुए एक अचूक रूप से मजबूत, सटीक आवाज में जवाब दिया। "तुम गलत हो!" उन्होंने कहा। "हर प्राणी प्रकृति की एक सुंदर अभिव्यक्ति है। और भी अधिक सुन्दर जब वह एक अनमोल मानव जन्म के साथ, ज्ञान और करुणा की क्षमता वाला एक प्राणी है।"

स्वयं नहीं है, लेकिन कीमती जीवन हैं।

मनन के लिए मूल प्रश्न: आप कहानी में उस "मैं" की धारणा से कैसे सम्बद्ध हैं जो खुद को अलग करता है और दुख में फंसता है? क्या आप उस समय के अनुभव को साझा कर सकते हैं जिसे आप कहानी के "मैं" को पहचानने और उससे परे होने में सक्षम थे? आपको आपकी स्वस्थ भावनात्मक जीवन शक्ति को खोए बिना, कहानी के "मैं" के बारे में जागरूक रहने में क्या मदद करता है?
 

Excerpted from here. Sylvia Boorstein is an American author, psychotherapist and Buddhist teacher.


Add Your Reflection

15 Past Reflections