The Anatomy Of Falling

Author
Michael Singer
23 words, 13K views, 18 comments

Image of the Weekगिरने की शारीरिक रचना
- माइकल सिंगर के द्वारा

स्व के स्थान को छोड़ना आम तौर पर एक इच्छाधारी कार्य नहीं है। आकर्षण के नियम इसका कारण बनेंगे। चेतना का ध्यान हमेशा सबसे विचलित करने वाली वस्तु के ऊपर जाता है: पैर की अंगुली की चोट, तेज आवाज, या दुखी दिल। यह एक ही कानून है, अंदर और बाहर दोनों। चेतना उस स्थान पर जाती है जो उसे सबसे अधिक विचलित करती है। जब कोई रुकावट आती है, तो वही आकर्षण होता है, और चेतना, बेचैनी के स्रोत की ओर खिंच जाती है। वह स्थान तब आपकी चेतना का आसन बन जाता है। चेतना वहां गिर जाती है जहां गड़बड़ी हो रही है, और फिर पूरी दुनिया अलग दिखती है।

आइए क्रमशः इस गिरने का विश्लेषण करें। यह तब शुरू होता है जब आप अशांत ऊर्जा में खिंच जाते हैं। आप वहां पहुँच जाते हैं जहां आप सम्बद्ध नहीं हैं। अब, जैसा कि आप अपनी परेशान ऊर्जा के माध्यम से देखते हैं, सब कुछ आपकी गड़बड़ी की धुंध से विकृत है। सुंदर दिखने वाली चीजें अब बदसूरत दिखने लगती हैं। जिन चीजों को आप पसंद करते थे, अब अँधेरी और निराशाजनक लगती हैं। लेकिन वास्तव में कुछ भी नहीं बदला है। यह सिर्फ इतना है कि आप गड़बड़ी की स्थान से जीवन को देख रहे हैं।

आपकी धारणा में इन बदलावों में से प्रत्येक को, आपको मुक्त कर देने के लिए याद दिलाना चाहिए। जिस क्षण आप यह देखना शुरू करते हैं कि आप उन लोगों को पसंद नहीं करते हैं जिन्हें आप पसंद करते थे, जिस क्षण आप यह देखना शुरू करते हैं कि आपका जीवन वास्तव में अलग दिखता है, जिस क्षण यह सब नकारात्मक होने लगता है - जाने दें।

एक बार सक्रिय होने के बाद, एक रुकावट को अपना काम करना होगा। यदि आप जाने नहीं देते हैं, तो आप उस में सोख लिए जाते हैं। आप अब स्वतंत्र नहीं हैं । एक बार जब आप सापेक्षिक स्पष्टता के अपने स्थान से गिर जाते हैं, तो आप परेशान ऊर्जा की दया के अधीन होते हैं।

यह गिरने की शारीरिक रचना है। जब आप इस गड़बड़ी की स्थिति में होते हैं, तो आपकी प्रवृत्ति चीजों को ठीक करने की कोशिश करने के लिए कार्य करने की होगी। आपके पास यह देखने की स्पष्टता नहीं है कि क्या हो रहा है; आप सिर्फ गड़बड़ी को रोकना चाहते हैं। तो आप अपने अस्तित्व की वृत्ति की तरफ उतरना शुरू करते हैं। आपको लग सकता है कि आपको कुछ कठोर करना है। आप अपने पति या पत्नी को छोड़ना चाहते हैं, या आगे बढ़ना चाहते हैं, या नौकरी छोड़ना चाहते हैं। मन हर तरह की बातें कहने लगता है क्योंकि वह इस स्थान को पसंद नहीं करता है, और यह कैसे भी इससे दूर हो जाना चाहता है। [...]

अगर आपके अंदर गड़बड़ी चल रही है तो यह एक बात है। लेकिन जिस क्षण आप इसे स्वयं को व्यक्त करने की अनुमति देते हैं, जिस क्षण आपने उस ऊर्जा को अपने शरीर से स्थानांतरित होने दिया, आप दूसरे स्तर पर उतर चुके हैं। अब उसे जाने देना लगभग असंभव है। यदि आप किसी पर चिल्लाना शुरू करते हैं, यदि आप वास्तव में किसी को बताते हैं कि आप उनके बारे में उस समय कि स्थिति में कैसा महसूस करते हैं, तो आपने उस व्यक्ति के दिल और दिमाग को अपनी गड़बड़ी में शामिल कर लिया है। अब आप दोनों के अहं इसमें शामिल हैं। एक बार जब आप इन ऊर्जाओं को बाहर कर देते हैं, तो आप अपने क़दमों की वकालत करना चाहेंगे और उन्हें उपयुक्त दिखाएंगे। लेकिन दूसरा व्यक्ति कभी नहीं सोचेगा कि वे उचित थे।

अब और भी ताकतें आपको नीचे रख रही हैं। पहले तुम अंधेरे में उतरते हो, और फिर तुम उस अंधेरे को प्रकट करते हो। जब आप ऐसा करते हैं, तो आप सचमुच रुकावट की ऊर्जा ले रहे हैं और इसे पारित कर रहे हैं। क्या होता अगर इस सब से बचने के लिए आप शुरुआत में ही इसे जाने देते? अगर आप ऐसा करते, तो आप नीचे की बजाय ऊपर की ओर जाते। यह ऐसे काम करता है। जब कोई रुकावट आती है, तो यह अच्छी बात है। यह आंतरिक रूप से खुलने और अवरुद्ध ऊर्जा को मुक्त करने का समय है। यदि आप जाने देते हैं, और शुद्धि प्रक्रिया को अंदर होने की अनुमति देते हैं, तो उस अवरुद्ध ऊर्जा को छोड़ दिया जाएगा। जब इसे छोड़ दिया जाता है और प्रवाह करने की अनुमति दी जाती है, तो यह शुद्ध हो जाती है और आपकी चेतना के केंद्र में वापस विलय हो जाती है। यह ऊर्जा, तब आपको कमजोर करने के बजाय आपको मजबूत बनाती है।

यदि आप इस रास्ते में गिरते हैं, तो बस उठो और इसे भूल जाओ। अपने संकल्प को मजबूत करने के लिए इसे पाठ की तरह उपयोग करें। इसे तुरंत जाने दो। इसे तर्कसंगत बनाने, दोष देने या इसका पता लगाने की कोशिश न करें। कुछ मत करो। बस तुरंत जाने दें, और ऊर्जा को चेतना के उच्चतम केंद्र पर वापस जाने की अनुमति दें। अगर आपको शर्म आती है, तो इसे जाने दें। अगर आपको डर लगता है, तो इसे जाने दें। ये सभी अवरुद्ध ऊर्जा के अवशेष हैं जो शुद्ध हो रहे हैं।

हमेशा, जैसे ही आपको पता चलता है कि आपने नहीं जाने दिया है, जाने दो। कोई फर्क नहीं पड़ता कि यह क्या है, इसे जाने दो। यह जितना बड़ा होता है, जाने देने का इनाम उतना ही अधिक होता है और अगर आप नहीं जाने देते तो नुक्सान भी उतना अधिक होता है। यह एकदम स्पष्ट है। तुम या तो जाने दोगे या तुम नहीं जाने दोगे। वहाँ वास्तव में बीच में कुछ भी नहीं है। तो अपने सभी रुकावटों और गड़बड़ियों को यात्रा के लिए ईंधन बनने दें। जो आपको नीचे पकड़ रहा है वह एक शक्तिशाली शक्ति बन सकता है जो आपको ऊपर उठाता है। बस आपको चढ़ाई के लिए तैयार रहना होगा।

मनन के लिए प्रश्न: जाने देने से आप क्या समझते हैं? क्या आप किसी ऐसे समय की एक व्यक्तिगत कहानी साझा कर सकते हैं जब अवरुद्ध ऊर्जा को मुक्त करने में सक्षम हुए हों ? जाने देने में आपको क्या मदद करता है?
 

Michael A. Singer from 'The Untethered Soul: the journey beyond yourself'


Add Your Reflection

18 Past Reflections