Loving Your Enemy


Image of the Week
अपने दुश्मन से प्यार करना

- ब्रदर डेविड स्टाइन्डल-रास्ट द्वारा (३० अगस्त, २०१७)

अपने शत्रुओं से प्यार करने का मतलब यह नहीं है कि हम अचानक उनके मित्र बन जाते हैं। यदि हमें अपने शत्रुओं से प्यार करना है, तो उन्हें हमारा शत्रु बना रहना होगा। जब तक आपके दुश्मन नहीं होते, आप उन्हें प्यार नहीं कर सकते। और अगर आपके कोई दुश्मन नहीं हैं, तो मैं सोचता हूँ कि क्या आपके कोई दोस्त हैं। जब आप अपने दोस्तों को चुन लेते हैं, तो उनके दुश्मन आपके दुश्मन बन जाते हैं। धारणा बनाने से, हम खुद को उन लोगों का दुश्मन बना लेते हैं जो उन धारणाओं का विरोध करते हैं। लेकिन चलिए यह सुनिश्चित कर लें कि हम इस बात से सहमत हैं कि मित्र, शत्रु, घृणा या प्रेम जैसे शब्दों से हमारा क्या मतलब है।

अपने अच्छे दोस्तों के साथ जो आपसी अंतरंगता हम बांटते हैं वह जीवन का सबसे बड़ा उपहार है, लेकिन जब हम किसी को एक मित्र बुलाते हैं तो यह हमेशा नहीं होता। मित्रता को पारस्परिक होने की ज़रूरत नहीं है। “हमारे स्थानीय पुस्तकालय के मित्र” जैसे संगठनों के बारे में आपका क्या कहना है? “हाथियों और अन्य लुप्तप्राय प्रजातियों के मित्र”? मैत्री में निकटता के कई स्तर होते हैं और यह कई अलग-अलग रूप लेती है। जो इसका हमेशा मतलब होता है वह है उन लोगों को सक्रिय सहारा देना जिनके साथ हम दोस्ती करते हैं, उनके लक्ष्यों तक पहुंचने में उनकी सहायता करना।

दुश्मनों के साथ यह एकदम विपरीत है। आखिरकर, “एनिमी” ("दुश्मन") शब्द लैटिन के "इनिमिकस" से आया है, और इसका अर्थ है "दोस्त नहीं"। बेशक, ऐसा नहीं है कि हर कोई जो दोस्त नहीं है तो वह एक दुश्मन है। दुश्मन विरोधक हैं - खेल के लिए विरोधक नहीं, जैसा कि खेल-कूद में, लेकिन गहरी चिंता के मामलों में हमारे साथ आपसी विरोध में। उनके लक्ष्य हमारी अपनी सर्वोच्च आकांक्षाओं के विरोध में हैं। इस प्रकार, दृढ़ विश्वास के कारण हमें सक्रिय रूप से उन्हें अपने लक्ष्यों तक पहुंचने से रोकने की कोशिश करनी चाहिए। हम इसे प्यार से कर सकते हैं या नहीं - और इस तरह हम अपने आप को अपने दुश्मनों से प्यार करने की संभावना से आमना-सामना कराते हैं।

अपने हर रूप में प्रेम एक दूसरे से जुड़े को कहा "हां" है। मैं इसे "जिया हुआ हां" कहता हूं, क्योंकि जिस तरह से प्यार करने वाले लोग रहते हैं और काम करते हैं, वह ज़ोर से और स्पष्ट रूप से कहता हैं: "हां, मैं आपका अनुमोदन और सम्मान करता हूं और मैं आपका भला सोचता हूँ। ब्रह्मांडीय परिवार के सदस्य होने के नाते हम सब का एक दूसरे से सम्बन्ध है, और यह संबंध किसी भी उस चीज़ से कहीं ज्यादा गहरा है जो हमें कभी भी विभाजित कर सकता है।" उल्टे तरीके से, एक सम्बन्ध से “हां” कहना नफरत में भी मौजूद है। जबकि प्यार इस हाँ को ख़ुशी और लगाव से कहता है, नफरत इसे क्रुद्धता और दुश्मनी, चिढ के साथ कहती है। फिर भी, जो नफरत भी करता है, वह भी पारस्परिक संबंध को स्वीकार करता है। क्या आपके जीवन में कुछ ऐसे पल नहीं आए है, जब आप यह नहीं कह सकते कि क्या आप अपने दिल के करीब किसी व्यक्ति को प्यार करते हैं या नफरत? इससे पता चलता है कि घृणा प्यार के विपरीत नहीं है। प्रेम (और नफरत) का विपरीत उदासीनता है।

अपने दुश्मनों को प्यार करना किसी भी आध्यात्मिक परंपरा को मानने वाले सब मनुष्यों के लिए आदर्श है। महात्मा गांधी ने इसका सेंट फ्रांसिस की तुलना में कुछ कम प्रेरणा से पालन नहीं किया। लेकिन यह यीशु की कहावत को दिमाग में लाता है: "आपने सुना है कि यह कहा गया था, 'आप अपने पड़ोसी से प्रेम करें और अपने दुश्मन से घृणा करें।' परन्तु मैं आपसे कहता हूं, अपने शत्रुओं से प्रेम करो और उन लोगों के लिए प्रार्थना करो जो आपको सताते हैं।” (माउंट 3: 43f) और यह, बदले में, इस बात की याद कराता है जो जी के चेस्टरटन ने कही थी: "ईसाई आदर्श की जाँच नहीं की गयी और उसे कम नहीं पाया गया। इसे मुश्किल पाया गया है; और इसकी इसकी जाँच नहीं की गयी।"- मुश्किल, हाँ, लेकिन प्रयास करने के लिए विशेष रूप से मूल्यवान, विशेष रूप से दुश्मनी द्वारा बिखरी इस दुनिया में।

प्रतिबिंब के लिए बीज प्रश्न: अपने दुश्मन को प्यार करने से आप क्या समझते हैं? क्या आप एक ऐसा अनुभव बाँट सकते हैं जहां आपने अपने दुश्मनों से प्रेम करने और आपको सताने वाले लोगों के लिए प्रार्थना करने के आदर्श का अनुभव किया हो? विचारधारा के संघर्ष का सामना करते हुए आपको उस आदर्श का अभ्यास करने में किस चीज़ से मदद मिलती है?

यह लेख ब्रदर डेविड स्टाइन्डल-रास्ट द्वारा लिखित है।
 

by Brother David Steindl-Rast from this article.


Add Your Reflection

10 Past Reflections