We Were Made for These Times


Image of the Weekहम इसी समय के लिए बने थे
- क्लैरिसा पिन्कोला एस्टीस द्वारा लिखित (१२ अप्रैल, २०१७)


मेरे दोस्तों, मन छोटा मत करो। हम इसी समय के लिए बने थे। मैंने ये हाल ही में बहुत से लोगों से सुना है जो गहराई से और पूरी तरह से घबराए हुए हैं। वे आज की दुनिया में चीज़ों के हालात के बारे में चिंतित हैं। हमारा यह समय लगभग रोज़मर्रा की हैरानी और अक्सर जो सभ्य, दूरदर्शी लोगों के लिए जो सबसे अधिक मायने रखता है, उन चीज़ों की गिरावट के बारे में सच्चे रोष का समय है।

आप अपने मूल्यांकनों में सही हैं। वो चमक और घमंड जिसकी कुछ लोगों ने, बच्चों, बुजुर्गों, आम लोगों, गरीबों, असुरक्षितों, असहाय लोगों के खिलाफ इतने घृणित कामों का समर्थन करते हुए, आकांक्षा की है, वह असाधारण है। फिर भी, मैं आपसे आग्रह करती हूं, कहती हूँ, कि कृपया आप अपनी आत्मा को इन कठिनाइयों के समय के बारे में सोचकर दुःख न दें। विशेष रूप से उम्मीद न खोएं। सबसे खासकर इसलिए क्योंकि, बात यह है कि हम इसी समय के लिए बने थे। हाँ। सालों से, हम सीख रहे हैं, अभ्यास कर रहे हैं, प्रशिक्षण ले रहे हैं और ठीक इसी कार्य क्षेत्र में मिलने का इंतजार कर रहे हैं।

मैं महान झीलों (ग्रेट लेक्स) पर बड़ी हुई और जब मैं एक समुद्र में तैरने लायक जहाज को देखती हूँ, तो मैं उसे पहचान लेती हूँ। जहां तक जागृत आत्माओं का सवाल है, दुनिया भर में जितने अधिक सक्षम जहाज इस समय हैं, उतने पहले कभी नहीं हुए हैं। और उनमें ऐसे प्रबंध हैं और वे एक दूसरे को संकेत देने में इतने सक्षम हैं जैसा मानव जाति के इतिहास में पहले कभी नहीं हुआ ।

जहाज़ के अगले भाग पर से देखो; तुम्हारे साथ पानी पर सच्ची आत्माओं की लाखों नावें हैं। भले ही आपकी बनावट की लकड़ी इस तूफानी क्रोध की हर लहर के साथ काँप जाती है, मैं आपको आश्वासन देती कि आपकी नाव के अगले भाग और उसकी पतवार में लगी लकड़ी के शहतीर किसी महान जंगल से आये हैं। यह लम्बी लकीरों वाले शहतीर तूफानों से जूझने, मज़बूत रहने, अपने आप खड़े रहने, और चाहे कुछ हो, आगे बढ़ते रहने, के लिए जाने जाते हैं।

किसी भी अंधेरे समय में, दुनिया में कितना ग़लत या टूटा-फूटा है, इस बात पर परेशान होकर झुकने की प्रवृत्ति है। उस पर ध्यान न दें। एक प्रवृत्ति यह भी है, कि अपने आपे से जो बाहर है और जो अभी हो ही नहीं सकता, उस तक पहुंचने के बारे में सोचकर कमज़ोर हो जाना। वहां पर ध्यान न दें। वह तो पाल को ऊपर उठाए बिना हवा को बर्बाद करने जैसा हुआ।

हमारी जरुरत है, हम सिर्फ इतना ही जान सकते हैं। और यद्यपि हम प्रतिरोध का सामना करते हैं, फिर भी हम उन महान आत्माओं से मिलेंगे जो हमें शाबाशी देंगी, हमें प्यार करेंगी और हमारा मार्गदर्शन करेंगी, और जब वो सामने आएंगी, हम उन्हें जान जाएंगे। क्या तुमने कहा नहीं था कि तुम एक आस्तिक हो? क्या तुमने कहा नहीं था कि तुम एक महान आवाज को सुनने का वचन देते हो? क्या तुमने अनुग्रह की मांग नहीं की थी? क्या तुम्हें याद नहीं है कि अनुग्रह का मतलब है उस महान आवाज़ पर खुद को समर्पित कर देना?

पूरी दुनिया को एक ही बार में ठीक कर देना हमारा काम नहीं है, बल्कि दुनिया का जो हिस्सा हमारी पहुंच के भीतर है, उस हिस्से को सुधारने के लिए खुद को आगे बढ़ाना। कोई भी छोटी, शांत बात जो एक आत्मा किसी दूसरी आत्मा की सहायता करने के लिए, इस बेचारी पीड़ित दुनिया के कुछ हिस्से की सहायता करने के लिए, कर सकती है, उससे बेहद मदद मिलेगी। हमें यह नहीं बताया गया है कि कौन-से कार्य, या किसके द्वारा होंगे, जो महत्वपूर्ण चीज़ों के संग्रह को एक स्थायी अच्छाई की ओर उलटने में मदद करेंगे।

एक प्रभावशाली परिवर्तन के लिए जो आवश्यक है, वह है अच्छे कामों का संग्रह और उनमें जोड़ते जाना, जोड़ते जाना, जोड़ते जाना, और यह जारी रखना। हम जानते हैं कि न्याय और शांति लाने के लिए पृथ्वी के हर इंसान को न्याय और शांति लाने की ज़रूरत नहीं है, लेकिन ज़रूरत है केवल एक छोटे, दृढ़ समूह की जो पहले, दूसरे, या सौवें तूफ़ान के दौरान भी हार नहीं मानेगा।

एक तूफानी दुनिया में हस्तक्षेप करने के लिए आप जो सबसे शांत और शक्तिशाली काम कर सकते हैं, उनमें से एक है खड़े होना और अपनी आत्मा का प्रदर्शन करना। छत पर खड़ी आत्मा अंधेरे समय में सोने की तरह चमकती है। आत्मा का प्रकाश चिंगारियां बिखेरता है, ऊपर लपटें छोड़ सकता है, संकेतक आग बनाता है, उचित चीज़ों के लिए आग लगने का कारण बनता है। ऐसे अंधेरे समय में आत्मा की लालटेन को प्रदर्शित करने के लिए - उत्तेजित होना और दूसरों के प्रति दया दिखाना; दोनों ही महान बहादुरी और सबसे बड़ी ज़रूरत के काम हैं।

संघर्ष करने वाली आत्माएं उन अन्य आत्माओं से आग पकड़ लेती हैं जो पूरी तरह से जल रही हैं और यह दिखाने के लिए तैयार हैं। यदि तुम इस हंगामें को शांत करने में मदद करोगे, तो यह सबसे बड़ी चीज़ होगी जो तुम कर सकते हो।

ऐसे समय आते रहेंगे जब तुम निराश महसूस करोगे। मैंने भी अपने जीवन में कई बार निराशा महसूस की है, लेकिन मैं उसके लिए खाली कुर्सी नहीं रखती। मैं उस की खातिर नहीं करती। उसे मेरी थाली में से खाने की अनुमति नहीं है।

इसका कारण यह है: अपनी अस्थियों की गहराई में मैं कुछ जानती हूं, वही तुम भी जानते हो। ऐसा है कि जब तुम ये याद रखते हो कि तुम पृथ्वी पर क्यों आए थे, तुम किसकी सेवा में हो, और तुम्हें यहां किसने कौन भेजा है, तो फ़िर कोई निराशा नहीं होगी? हम जो अच्छे शब्द कहते हैं और जो अच्छे कर्म हम करते हैं वे हमारे नहीं है। वे उसके शब्द और कर्म हैं जो हमें यहाँ लेकर आया है। इस भावना से, मुझे आशा है कि आप यह अपनी वॉल पर लिखेंगे: जब एक महान जहाज बंदरगाह में है और बंधा है, तो वो सुरक्षित है, इसमें कोई शक नहीं हो सकता। लेकिन महान जहाज़ इस के लिए नहीं बने हैं।

विचार के लिए कुछ मूल प्रश्न: आप महान जहाजों और सेवा के रूपक से क्या समझते हैं? क्या आप कोई व्यक्तिगत अनुभव बाँटना चाहेंगे जो “छत पर आत्मा” जो अंधेरे में सोने की तरह चमकती है, यह दर्शाता हो? आपको निराशा में डूबने की बजाए, छत पर चढ़ने और चमकने में किस चीज़ से मदद मिलती है?

डॉ क्लारिसा पिनकोला एक अमेरिकी कवियित्री, जंगियन मनोविश्लेषक, पोस्ट-ट्रॉमा रिकवरी विशेषज्ञ, लेखक और उच्चारित शब्द की कलाकार हैं। एस्टेस अपने अप्रवासी, शरणार्थी परिवारों के, अब गायब मौखिक परंपरा में पली हैं, जो पढ़ लिख नहीं सकते थे, या बहुत पढ़ने-लिखने में लड़खड़ाते थे, और जिनके लिए अंग्रेजी अपनी पुरातन मातृभाषाओं के बाद, तीसरी भाषा थी।
 

Excerpted from here. Dr. Clarissa Pinkola is an American poet, Jungian psychoanalyst, post-trauma recovery specialist, author and spoken word artist. Estés grew up in the now vanished oral tradition of her immigrant, refugee families who could not read nor write, or did so haltingly, and for whom English was their third language overlying their ancient natal languages. 


Add Your Reflection

30 Past Reflections