The Capacity for Successful Solitude

Author
Sherry Turkle
24 words, 28K views, 10 comments

Image of the Week
सफल एकांत की क्षमता
--शैरी टर्कल ( ९ मार्च, २०१६)

अकेले रह पाने की क्षमता, अपने आप को यथेष्ट रूप से जान पाने और यह कि आप कौन हैं, और उसके साथ कुछ शांति के साथ रह पाने की क्षमता है। इस तरह, जब आप किसी अन्य व्यक्ति के साथ होते हैं, तो आप उस व्यक्ति को वो बनाने की कोशिश नहीं कर रहे हैं जो आप चाहते हैं ताकि आप अपने नाज़ुक अस्तित्व के भाव को पुष्ट कर सकें। वास्तव में आप किसी व्यक्ति की ओर घूम सकते हैं और उसे एक अन्य व्यक्ति के रूप में देख सकते हैं, और उनके साथ एक वास्तविक संबंध बना सकते है।

फिर, जो व्यक्ति ऐसा नहीं कर सकता, वो उन लोगों में से होगा जिसके साथ कोई भी रहना नहीं चाहता, क्योंकि जब आप उन्हें आते देखते हैं, आप जानते हैं कि वे खुद को भयानक तौर पर अकेले महसूस करने से बचने के लिए आप को इस्तेमाल करेंगे। वो लोग बहुत अकेले हैं, क्योंकि वे रिश्ते नही बना सकते। वे और लोगों को स्पेयर पार्ट्स की तरह इस्तेमाल कर रहे हैं।
किसी रिश्ते में होने की क्षमता के लिए एक वास्तविक एकांत में रह पाने की क्षमता का होना आवश्यक है। आपमें सफल एकांत में रहने पाने की इस क्षमता का विकास होना सफल बचपन के उपहारों में से एक है। विडंबना यह है कि आप यह आपको पालने वाले किसी व्यक्ति के आपके साथ रहने से सीखते हैं, लेकिन जो आपके लिए कुछ एकांत की जगह छोड़ने में समर्थ था।

मुझे अपनी दादी के साथ ब्रुकलिन में मेसीज़ की सैरें याद हैं। और हम दोनों एक साथ चुप-चाप होते। कभी-कभी कोई कुछ बोलता, लेकिन आमतौर पर हम साथ-साथ अपने ख्यालों में मग्न होते, और कभी-कभी कोई ख्याल एक दूसरे से बाँट लेते, और मुझे अहसास रहता कि मेरे साथ कोई है, जो जब मैं अपने ख्यालों को सोचना सीख रही थी, तब मेरी सुरक्षा कर रहा था। जो यह है, लोगों के पास इसके अलग-अलग मॉडल होते है: एक-साथ बैठ कर सिलाई करना या पढ़ना या खेलना या बच्चे को नहलाना और उसे अपने ख्यालों में अकेला छोड़ देना। बचपन के कई ऐसे पल होते हैं जहां बच्चों का बहिष्कार नहीं होता, लेकिन वो अकेला रहना सीखते हैं। और इस क्षमता का अर्थ यह है कि जब वे अन्य रिश्ते बनाते हैं, तो वे उन्हें सफलतापूर्वक बना सकते हैं। अगर ऐसा करने के बजाय, आप उन्हें एक बच्चों के झूले में डाल दें जिसमे आईपैड या आईफोन या लैपटॉप रखने की जगह बनी हो, तो वो हमेशा किसी और बाहरी चीज़ में ध्यान लगाएंगे और वो अपने खुद के अंदर या अपने संसाधनों और अपने मन और अपनी कल्पना की ओर नहीं लौट पाएंगे।

एक अद्भुत विचार है जिसे आपको जानना ज़रूरी है कि आपके वातावरण में सबसे दिलचस्प चीज़ आपका अपना मन ही है। और अगर आप कभी यह बात नहीं सीखते, तो यह ठीक नहीं है।

विचार के लिए कुछ मूल प्रश्न: आप सफल एकांत से क्या समझते हैं? क्या आप कोई व्यक्तिगत अनुभव बाँटना चाहेंगे जब आपने किसी और व्यक्ति के साथ सफ़ल एकांत का अनुभव किया हो? आपको सफल एकांत की मांसपेशी का विकास करने में किस चीज़ से मदद मिली है?

शेरी टर्कल के ब्लॉग पोस्ट: “स्मार्टफोन की लत के युग में फिर से बातचीत करना सीखें” से उद्धरित।
 

Excerpted from Sherry Turkle's blog post: Relearning how to talk in the age of Smartphone addiction 


Add Your Reflection

10 Past Reflections