When Winnie The Pooh Was Scared

Author
Unknown
62 words, 14K views, 26 comments

Image of the Week

“जब विनी द पूह डरा हुआ था”

-ए. ए. मिल्ने के द्वारा



"पिगलेट" पूह ने कहा। "हाँ," पिगलेट ने कहा। "मुझे डर लग रहा है," पूह ने कहा।

एक क्षण के लिए सन्नाटा छा गया। "क्या आप इसके बारे में बात करना चाहेंगे," पिगलेट ने पूछा, जब पूह आगे कुछ भी कहते नहीं दिखे।

पूह ने कहा, "मैं बहुत डरा हुआ हूं, बहुत चिंतित हूं, क्योंकि मुझे नहीं लगता कि चीजें बेहतर हो रही हैं। बल्कि मुझे लगता है कि वे और भी बदतर हो रही हैं। लोग गुस्से में हैं क्योंकि वे बहुत डरे हुए हैं और वे एक-दूसरे पर हमला कर रहे हैं और ऐसा लगता है कि यहां से निकलने की कोई स्पष्ट योजना नहीं है और मुझे अपने दोस्तों और उन लोगों की चिंता है जिन्हें मैं प्यार करता हूं और मेरी बहुत इच्छा है कि मैं उन सभी को आलिंगन दे सकूं। और, ओह, पिगलेट, मैं बहुत डरा हुआ हूं और मैं आपको बता नहीं सकता कि मैं कितना चाहता हूं कि ऐसा नहीं होना चाहिए।

इसलिए पिगलेट विचारमग्न था और उसने आसमान के नीले रंग को देखा, सौ एकड़ जंगल में पेड़ों की शाखाओं के बीच से झाँकते हुए उसने अपने दोस्त की बातें सुनीं।

"मैं यहाँ हूँ।" उन्होंने सरलता से कहा. "मैं तुम्हें सुन रहा हूँ, पूह, और मैं यहाँ हूँ।"

एक पल के लिए पूह हैरान रह गया। "लेकिन क्या आप मुझसे यह नहीं कहेंगे कि मैं इतना मूर्ख न बनूं , कि मैं खुद को ऐसी स्थिति में ले जाना बंद कर दूं और खुद को संभाल लूं कि अभी यह समय हर किसी के लिए कठिन है?" "नहीं," पिगलेट ने काफी निर्णायक ढंग से कहा। "नहीं, मैं इनमें से कुछ भी नहीं करूँगा।"

पिगलेट ने आगे कहा, "मैं अभी दुनिया को नहीं बदल सकता।" “और मैं आपको इस बारे में खोखले दावे नहीं करूँगा कि सब कुछ कैसे ठीक होगा, क्योंकि मैं यह नहीं जानता। हालाँकि, मैं क्या कर सकता हूँ, पूह, मैं यह सुनिश्चित कर सकता हूँ कि आप जानते हैं कि मैं यहाँ हूँ और मैं हमेशा आपकी बात सुनने और आपका समर्थन करने के लिए और यह जानने के लिए यहाँ रहूँगा कि आपकी बात सुनी जाती है। मैं उन चिंतित भावनाओं को दूर नहीं कर सकता, वास्तव में नहीं, लेकिन मैं आपसे वादा कर सकता हूं कि जब तक मेरे शरीर में सांसें बची रहेंगी, आपको कभी भी उन चिंतित भावनाओं को अकेले महसूस करने की आवश्यकता नहीं होगी।

और यह एक अजीब बात थी क्योंकि, जैसे ही पिगलेट ने यह कहा ,पूह को महसूस होने लगा कि उन चिंतित भावनाओं में से कुछ ने उस पर अपनी पकड़ ढीली करनी शुरू कर दी है, वह महसूस कर सकता है कि उनमें से एक या दो भावनाओं ने उसके दोस्त से भयभीत होकर जंगल में भागना शुरू कर दिया है, ये दोस्त, जो बैठा है यहाँ उसके बगल में मज़बूती से।

पूह ने सोचा कि वह अपने जीवन में पिगलेट को पाकर इतना आभारी कभी नहीं था।



मनन के लिए मूल प्रश्न: आप किसी कठिन समस्या के लिए प्रामाणिक प्रतिक्रिया के रूप में स्तिथी को सँभालने ( holding space ) की धारणा से कैसे संबंधित हैं? क्या आप कोई निजी कहानी साझा कर सकते हैं जब आपने किसी के लिए स्तिथी को संभाला (space hold) हो? बिना किसी धारणा के किसी के लिए साक्षी भाव में मौजूद रहने के लिए प्रतिबद्ध होने में आपको किससे मदद मिलती है?



 

Excerpt inspired by Winnie-the-Pooh, a 1926 children's book by A. A. Milne.


Add Your Reflection

26 Past Reflections