Preparing For The Extraordinary: An Essential Practice

Author
Alan Briskin
28 words, 11K views, 14 comments

Image of the Week




असाधारण के लिए तैयारी: एक आवश्यक अभ्यास
- एलन ब्रिस्किन (२८ नवंबर, २०१८)

असाधारण के लिए तैयारी करना सामूहिक ज्ञान की [...] आवश्यक प्रथाओं में से एक है। दूसरों और आध्यात्मिक शक्तियों के साथ सम्बन्ध की महान भावना को प्राप्त करने के लिए स्पष्ट इरादे और सचेत तैयारी की आवश्यकता है।

इस विचार को एक कहानी के माध्यम से चित्रित करना उपयोगी हो सकता है। महान ऋषि, रेब ज़ालमान शेष्टर शालोमी, ने मुझे अपने दोस्त और सहयोगी, हावर्ड थर्मन,[...] एक प्रतिष्ठित अफ्रीकी अमेरिकी दार्शनिक, धर्मशास्त्री, मार्टिन लूथर किंग के गुरु, के साथ होने वाले एक अनुभव के बारे में बताया।

इस अवसर पर, रेब ज़ालमान ने थर्मन को मैनिटोबा, कनाडा आमंत्रित किया, जहां रेब ज़ालमान रह रहे थे। साथ में, वे दोनों स्थानीय ईसाई मठ गए जहां थर्मन वहां के नए मास्टर से मिले। थर्मन ने उनसे सबसे आम शिकायत जो वो अपने शिष्यों से सुनते हैं, वह बताने के लिए कहा। नए मास्टर ने कहा कि वो है कि उन्हें सुबह 3 बजे की प्रार्थना के लिए जागना पड़ता है, जिसके लिए उन्हें बिस्तर छोड़ना और ठंडी चैपल में प्रवेश करना पड़ता है। वो कहते हैं, "ऐसा करने की क्या ज़रूरत है,’ जब उन्हें पहले से ही सुबह 9 बजे की प्रार्थना से बड़ी संतुष्टि का अनुभव होता है।

जवाब में, नए मास्टर ने उन्हें सुबह 3 बजे की प्रार्थना सभा में आने से मना कर दिया। दो हफ्ते बाद, उन्होंने शिकायत की कि वे अब वैसी खुशी और रहस्य की भावना महसूस नहीं करते जो वो पहले सुबह 9 बजे की सभा में करते थे। छात्रों को वापस सुबह ३ बजे की प्रार्थना सभा में आमंत्रित किया गया, एक नए स्वरूप के साथ कि जो तैयारी ध्यान के ब्रह्म मुहूर्त में होती है, वो दिन के उजाले में जो होता है, उस पर क्या असर डालती है। रेब ज़लमैन ने हंसते हुए याद किया, थर्मन इस कहानी से बहुत प्रसन्न हुए।

असाधारण के लिए तैयारी करना वो प्रयास है जो हम करते हैं, हमारे द्वारा बनाए गए अनुष्ठान, आंतरिक मनोवैज्ञानिक कार्य जो हम करते हैं, जो हमारे उद्देश्य को पैना करता है और कुछ अद्भुत होने का मार्ग प्रशस्त करता है। कभी कठोर अवधारणात्मक तैयारी में, और कभी गहन प्रार्थना में । कभी-कभी यह असुविधा को सहन करना सीखने में है, और कभी खुद को साहसिक कार्य करने के लिए तैयार करने में है।

यह कैसे भी पूरा किया जाए, यह एक अकेले व्यक्ति की वजह से शायद ही कभी होता है, बल्कि एक बड़े सामाजिक क्षेत्र की वजह से, जिसमें कई व्यक्ति आपस में सहयोग से काम करते हैं, अपनी भूमिका निभाते हैं, अपनी अद्वितीय प्रतिभा से योगदान देते है, और दूसरों के द्वारा देखे और सुने जाने का अनुभव करते हैं। सामूहिक ज्ञान का एक केंद्रीय सिद्धांत है कि हममें से प्रत्येक समूह के अनुभव बनाने में भाग लेता है और समूह के विशिष्ट गुण हैं जो कि व्यक्ति को प्रभावित करते है। हम समूह अनुभव की सह रचना करते हैं, समूह क्षेत्र के प्रणेता हैं और संरचना का हिस्सा हैं।

प्रतिबिंब के लिए बीज प्रश्न: आप हमारे जीवन में असाधारण होने के लिए तैयारी की आवश्यकता की धारणा से क्या समझते हैं? क्या आप कोई व्यक्तिगत अनुभव बाँट सकते हैं जब आपको एहसास हुआ हो कि आप कैसे सामूहिक अनुभव का सह-निर्माण कर रहे थे जबकि साथ ही उससे प्रभावित भी हो रहे थे? आपको इस बात का अहसास होने में किस चीज़ से मदद मिलती है कि आप सामूहिक क्षेत्र के निर्माता भी हैं और रचना का हिस्सा भी?

एलन ब्रिस्किन द्वारा, द पावर ऑफ कलेक्टिव विस्डम (सामूहिक ज्ञान की शक्ति) के सह-लेखक
 

by Alan Briskin, co-author The Power of Collective Wisdom.


Add Your Reflection

14 Past Reflections