Shaped by a Silky Attention

Author
Jane Hirshfield
44 words, 13K views, 4 comments

Image of the Week
एक रेशमी ध्यान से गढ़ा
-- जेन हर्शफील्ड (जनवरी ११, 2017)

एकाग्रता के लिए किये गए अनुरोध का हमेशा जवाब नहीं मिलता, लेकिन कई शिक्षणों में लगे लोगों ने इसे आमंत्रित करने के तरीके ढूंढ लिए हैं। जब दशकों तक वाइलिन बजाने वाले सुरों का अभ्यास कर रहे होते हैं और नर्तक एक ही चलन को दोहरा रहे होते हैं, तो वो बस बजाने और नाचने की तैयारी या यंत्रवत् अपनी मांसपेशियों का प्रशिक्षण नहीं कर रहे होते। वे सीख रहे होते हैं कि कैसे अटल रूप से, एक पल से दूसरे पल पर, अपने आप पर और अपनी कला पर ध्यान दिया जाए; पसंद या बोरियत जैसी ध्यान हटाने वाली चीजों से मुक्त, स्थिर उपस्थिति में आना सीख रहे होते हैं ।

विडंबना यह है - हालांकि यह अस्तित्व में तब आती है, सच्ची एकाग्रता तब उभरती है, जिस पल में इच्छाशक्ति से किया गया प्रयास बंद हो जाता है। उस समय ऐसा होता है कि एक व्यक्ति उस स्थिति में प्रवेश करता है जिसे वैज्ञानिक मिहाई चिकसेन्टमिहाई ने "प्रवाह" के रूप में वर्णित किया है और जिसे ज़ेन "निष्क्रिय प्रयास” कहता है।" ऐसे क्षणों में, ऐसा हो सकता है कि वहाँ कोई गहन भावना मौजूद हो -- आनन्द, या यहां फिर दु: ख की भावना - - लेकिन जैसा कि अक्सर, गहरी एकाग्रता में, स्व गायब हो जाता है। जिस चीज़ पर हमारा ध्यान लगा होता है, ऐसा लगता है कि हम पूरी तरह उसमें अटक गए हैं, या फ़िर अपने ध्यान में ही खो जाते हैं।

यही कारण है कि रचनात्मक को अक्सर, अवैयक्तिक के रूप में और स्वयं से परे, वर्णन किया गया है, जैसा कि अंग्रेजी के शब्द “इंस्पिरेशन” की शब्द-व्युपत्ति का अर्थ है किसी चीज़ को साँस के साथ अंदर खींचना। हम [कवि], हालांकि लाक्षणिक रूप से, प्रेरक शक्ति की बात करते हैं, और गहरी कलात्मक खोज की बात रहस्योद्घाटन के रूप में करते हैं। और फिर चाहे हम कितना भी मानने लगें कि “'असली' व्यक्तिपरक और निर्मित होता है, फिर भी हम यह महसूस करते हैं कि कला एक रास्ता है जो सिर्फ खूबसूरती की ओर नहीं जाता, बल्कि सच की ओर जाता है: अगर "सच" एक चुनी हुई कथा है, तो नई कहानियों, नए सौंदर्यशास्त्र, भी नए सत्य हैं।

कठिनाई खुद ही शायद एकाग्रता की ओर जाने का एक रास्ता है - किया हुआ प्रयास हमें एक नियुक्त कार्य और सफल काम में गूँथ देता है, चाहे वो कितना भी श्रमसाध्य काम हो, वो प्यार का श्रम हो जाता है। लेखन का काम उस लेखक को भी भरपूर कर देता है जो दर्दनाक विषयों या औपचारिक समस्याओं से बाहर निकलने पर काम कर रहा है, और कई बार ऐसा होता है कि पीड़ा के लिए खुला अकेला रास्ता, जो हो रहा है उसमें एक विसर्जन के माध्यम से गुज़रता है। अठारहवीं सदी के उर्दू शायर गालिब ने इस सिद्धांत का इस तरह से वर्णन किया है: "बारिश की बूँद के लिए, आनन्द नदी में प्रवेश करना है। असहनीय दर्द खुद का ही इलाज बन जाता है।"

कठिनाई फ़िर, चाहे वो जीवन की हो या कला की, एक कलाकार के लिए एक बाधा नहीं है। सार्त्र ने प्रतिभा के बारे में कहा कि वो "एक उपहार नहीं है, बल्कि एक तरीका है जिससे एक व्यक्ति हताश परिस्थितियों में रचना करता है।" जैसे भूगर्भीय दबाव समुद्र के तलछट को चूना पत्थर में बदल देता है, एक कलाकार की एकाग्रता का दबाव एक पूरी तरह साधित काम के निर्माण में लग जाता है। ज़्यादातर सौन्दर्य, कला और जीवन दोनों में, आगे बहती इच्छाओं का प्रतिरोध की रेखाओं के साथ संतुलन बनाना है - एक ऐंठा हुआ वृक्ष, एक मूर्ति के ऊपर लिपटे कपड़े का लहराना। इस तरह के तनाव, शारीरिक या मानसिक, के माध्यम से, जिस दुनिया में हम मौजूद हैं वो खुद बन जाती है। महान कला, हम कह सकते हैं, वो विचार है जो इस तरह से केंद्रित हो गया है: एक रेशमी ध्यान द्वारा प्रखरित और गढ़ा, जिसके द्वारा पृथ्वी और जीवन के उद्दंड पदार्थों पर असर डाला जाता है। हम कला में उस हाथ न आने वाली प्रबलता की तलाश करते हैं जिसके द्वारा वह जानता है।

विचार के लिए कुछ मूल प्रश्न: आप इस मान्यता से क्या समझते हैं कि महान कला “उस रेशमी ध्यान से प्रखरित होती हैजिसके द्वारा पृथ्वी और जीवन के उद्दंड पदार्थों पर असर डाला जाता है? क्या आप कोई व्यक्तिगत अनुभव सबसे बाँटना चाहेंगे जब कठिनाई एकाग्रता की ओर जाने का एक रास्ता बन गयी हो और जिसका समापन प्यार के श्रम में हुआ हो? आपको “सच्ची एकाग्रता” को बढ़ाने में किस चीज़ से मदद मिलती है?

जेन हर्शफील्ड आठ बहुत सम्मानित कविताओं की पुस्तकों की लेखिका हैं, हाल ही में लिखी “सौन्दर्य”, और दो निबंध संग्रह की, दस खिड़कियां: कैसे महान कविताएं विश्व को बदल देती हैं, और नौ दरवाज़े: काव्य के मन में प्रवेश (जिसमें से यह चयन लिया गया है), और चार पुस्तकें अतीत के विश्व कवियों के काम का संग्रहण और सह-अनुवाद। उनकी कविता और और विज्ञान, पर्यावरण, और पवित्र और दैनिक की अवियोज्यता की मान्यता के चौराहे में एक विशेष रुचि है।
 

Jane Hirshfield is the author of eight much-honored books of poems, most recently The Beauty, and of two essay collections, Ten WindowsHow Great Poems Transform the World and Nine Gates: Entering the Mind of Poetry (from which this selection is taken), and four books collecting and co-translating the work of world poets of the past. She has a special interest in the intersection of poetry and the sciences, the environment, and the recognition of the inseparability of the sacred and the daily.


Add Your Reflection

4 Past Reflections