Are You Bored Yet?

Author
Karen Maezen Miller
96 words, 34K views, 33 comments

Image of the Weekक्या आप अभी तक ऊब गए हैं ?

" मै ऊब गया हूँ । "

स्कुली बच्चे इस अवस्था से गर्मियों कि छुट्टियों के दूसरे दिन, काम करने वाले अपने काम से छः महीनो में, जीवन साथी विवाह के सातवें साल में; और पाठक इस लेख के दसवे अनुच्छेद ( paragraph ) या उससे पहले ही ग्रसित ( afflicted ) हो सकते हैं । [ और हिंदी न पढ़ने वाले तो पहले अनुच्छेद में ही उब सकते हैं । ]

क्या आप अभी तक ऊब गए हैं ? आज-कल निरसता को एक विपत्ति समझा जाता है । हम निरसता को जिज्ञासा, ज्ञान, उत्पादकता, नवीनता ( innovation ) प्रतिबद्धता जैसे गुणो कि मृत्यु के लिय जिम्मेदार मानते हैं । निरसता सभी प्रकार के विकर्षण ( distractions ), अरुचि ( disengagement ), आसक्ति ( overindulgence ) और अविश्वास ( infidelities ) का पूर्वगामी ( antecedent ) है । चुटकुला कुछ ऐसा है के, ऊब जाना सबसे बड़ा अपराध है, पर हमें पता है के असली अपराध तो ऊबने के बाद होंगे । निरसता के नाम पर हम अपने दिमाग, अपने शारीर, अपनी इंद्रियों और अपने समय को खचाखच भर देते हैं । हम हर उस चीज़ से जो हमारा मनोरंजन नहीं कर पाती दूर भागते है । नीरसता अवमानना को जन्म देती है, और अवमानना विपत्ति को ।

अगर निरसता इतना बड़ा खतरा है, तो चलो उसे खुले में लाएं । क्या आप मुझे निरसता दिखा सकते हैं ? दूसरे विचारों और भावनाओ कि तरह जिनसे हम अपने आप को परेशान करते हैं, हम निरसता का पता नहीं लगा सकते सिवाय के हमारे घातक उद्घोष ( deadly pronouncement ) में : " मै ऊब गया हूँ । " जैसे ही हम ये कहते हैं, हम उस पर विश्वास करने लगते हैं, और बस विश्वास कि ही तो जरुरत है । यहाँ पर कहानी रोचक ( interesting ) हो जाती है ।

जब हम ऊब जाते हैं, हम कुछ नया ढूंढने निकल पड़ते हैं । और चलिए,अब मान भी लीजिये : के हम हमेशा ही कुछ नया ढूंढते रहते हैं । हमारे पास कितना ज़यादा या कितना कम है इससे कोई फर्क नहीं पड़ता - हम में से हर एक अपनी प्रतिभा ( talents ) और संभावनाओ ( prospects ) के कोष को कितनी अच्छी तरह सम्भालता है - किसी तरह हम आश्वस्त ( convinced ) होते हैं के 'वह' अभी तक हमारे पास नहीं है, पूरी तरह संतुष्ट और सुरक्षित होने जितना तो नहीं ही है । हम सोचते हैं के हमे एक कुकी, एक खेल ( game ), एक उपकरण ( gadget ) जैसा कुछ हानिरहित - या नया व्यवसाय, प्रेमी या बच्चा चाहिए। हमें जो चाहिए हम उसे उच्चतर उद्देश्य ( higher purpose ), ज्ञान, राग ( passion ), या केवल दृश्यावली ( scenery ) का बदलाव जैसे नाम दे सकते हैं ।

जब तक हम आपने आप से शांत नहीं होते, ये खोज चलती रहेगी । जब तक हमें ये ठीक से समझ में नहीं आ जाता के और कही-नहीं जाना है, और कुछ नहीं पाना है, हम एक भ्रम में फसे हुए हैं । हम भ्रम को और ज़यादा भ्रम से हल नहीं कर सकते, पर हम प्रयत्न करते हैं और इस खोज में हम अपने आप को सच्चाई से और दूर और पुरे पागलपन में ले जाते हैं । निरसता से लड़ना एक पूर्णकालिक ( full time ) व्यवसाय ( occupation ) है ।

इस दौड़ से बाहर आने के लिए हमें क्या चाहिए ? क्या हो जब हम इस हमेशा पकड़ते हुए मन को ही छोड़ दें जो हमेशा ही किसी नयी अनमोल चीज़ कि फिराक़ में रहता है, चाहे वह केवल एक नयी कल्पना मात्र ही क्यूँ न हो? वो प्राक्रिया कष्टदायी होगी, या हमें ऐसा लगता है । हम छोड़ देने के भय से ग्रसित हैं, पर छोड़ देना कष्ट-मुक्त ( pain free ) है ।

- शम्बाला सन में कारेन मैज़ेन मिलर

अत्म-अन्वेषण के लिए प्रश्न :
' निरसता ' का आपके लिए क्या अर्थ हैं ?
क्या आप एक निजी कहानी हमारे साथ बाँट सकते हैं जब आपने निरसता के विचार का सामना किया ?
अगली नयी चीज़ कि दौड़ से आप अपने आप को कैसे मुक्त करते हैं ?


Add Your Reflection

33 Past Reflections