Parliament Of Subconscious Minds

Author
John Yates
59 words, 8K views, 4 comments

Image of the Weekअवचेतन मन की संसद
- जॉन येट्स के द्वारा


आप इस विचार पर आपत्ति कर सकते हैं कि आपके स्व होने की भावना मात्र एक निर्माण है। आखिरकार, यह बहुत वास्तविक लगता है। हम स्वयं के इस शक्तिशाली अर्थ को इस विचार से कैसे जोड़ सकते हैं कि हम केवल उप-दिमागों का एक संग्रह हैं? ध्यान आपके वास्तविक अनुभव की जांच करने से सम्बद्ध है, इसलिए मैं आपको यह देखने के लिए आमंत्रित करता हूं कि जब कुछ होता है, तो "मैं" तथ्य के बाद ही अधिरोपित हो जाता है।

मानिए कि आप एक दोस्त के साथ चल रहे हैं और एक स्मृति याद आती है। ध्यान दें कि स्मृति के उठने के बाद ही आप अपने दोस्त की ओर मुड़ते हैं और कहते हैं, "मुझे कुछ याद आया है।" या सोचें कि "मैं दुखी महसूस करता हूं", यह विचार उठने से बहुत पहले, उदासी जैसी भावना कैसे आपके भीतर मौजूद हो सकती है। प्रत्येक उदाहरण में, और लगभग हर दूसरे अनुभव में, जब "मैं" को जिम्मेदार ठहराया जाता है, वह वास्तव में विभिन्न उप-दिमागों की गतिविधि है। इसे और भी स्पष्ट करने के लिए, विचार करें कि क्या होता है जब हम दुविधा का सामना करते हैं या कुछ कठिन निर्णय लेना होता है। आपको पता चल जाएगा कि, यहाँ भी, "मैं" संघर्ष के उत्पन्न होने के बाद ही समक्ष आता है। फिर, जब कि संघर्ष जारी है, "मैं" एक विकल्प या किसी अन्य के समर्थन में विभिन्न विचारों और भावनाओं के अलग-अलग उप-दिमागों से उत्पन्न होता है। स्पष्ट रूप से एक निर्णय पर पहुँच जाने के बाद भी, "मैं" अभी भी संदेह या संकोच का अनुभव कर सकता है यदि कुछ उप-मन आश्वस्त नहीं हैं। लेकिन कुछ समय पश्चात, अचानक ही कहीं से, एक दृढ़ निर्णय उत्पन्न होता है।

वह "कहीं से" हमारे अचेतन मन के अलावा और कोई नहीं है; निर्णय उन अचेतन उप-दिमागों में से कुछ की सामूहिक बातचीत द्वारा लिया गया था। संघर्ष को हल करने के बाद में एक सोच आती है, "मैंने फैसला कर लिया है।" इन सभी स्थितियों में, कथात्मक मन बस चेतना में सूचना के प्रवाह को ले जाता है और इसे एक सार्थक कहानी के रूप में व्यवस्थित करता है, जो "मैं" नामक काल्पनिक इकाई
को इस सब कुछ के लिए जिम्मेदार बनाता है। भेदभाव करने वाला दिमाग तब उप-दिमागों के संग्रह द्वारा बनाए गए काल्पनिक उत्पाद के बजाय इस "मैं" को एक वास्तविक व्यक्ति समझने की गलती करता है।

यह ऐसा है जैसे कि जॉर्ज नाम के लोगों से भरा एक कमरे में बहस हो रही थी, लेकिन आप सभी को खबरें मिली थीं कि "जॉर्ज ने यह कहा" और "जॉर्ज ने वह कहा।" कथात्मक मन से जानकारी प्राप्त करने वाले अचेतन विवेकशील मन की तरह, आप शायद समूह की जगह, एक एकल, अति विरोधाभासी व्यक्ति "जॉर्ज" को समझने की गलती करेंगे। "आपके" निर्णय, और बाद के इरादे और कार्य, किसी स्व से उत्पन्न नहीं होते हैं। वे चेतन मन के माध्यम से सूचनाओं के आदान-प्रदान के कई अचेतन उप-दिमागों के बीच एक आम सहमति का परिणाम हैं।

मनन के लिए मूल प्रश्न: आप इस धारणा से कैसे सम्बद्ध हैं कि हमारा 'भेदभावपूर्ण दिमाग' उप-दिमागों के संग्रह द्वारा बनाए गए उत्पाद' के बजाय गलती से 'मैं' एक व्यक्ति विशेष को इसके लिए जिम्मेदार ठहराता है ? क्या आप उस समय का अनुभव साझा कर सकते हैं जब आप चेतन मन के माध्यम से अचेतन उप-मन के सूचनाओं के आदान-प्रदान करने के बारे में जागरूक थे? आपको इस बात की जानकारी होने में मदद मिलती है कि आप 'मैं' को कैसे जिम्मेदार ठहरा रहे हैं?
 

The excerpt above is from the book 'The Mind Illuminated'.


Add Your Reflection

4 Past Reflections