Love Needs to be Constantly Cleansed

Author
Ajahn Jayasaro
17 words, 16K views, 7 comments

Image of the Weekप्यार को लगातार शुद्ध करने की आवश्यकता होती है
-- अजान जयसारो (२३ नवम्बर, २०१६)

जो कहानियां बचपन में मुझे बहुत अच्छी लगती थीं, उनके अच्छे अंत में लगभग हमेशा किसी तरह का प्यार शामिल होता था, और मैंने यह देखना शुरू किया कि "वास्तविक जीवन" में प्यार हमेशा खुशी की गारंटी नहीं है और वह शायद ही कभी बहुत लंबे समय के लिए कुछ भी हल करता है। जब मैं किशोर था तो उन दिनों का एक नारा जो मुझे सबसे अधिक प्रभावित करता था, वो था कि क्या आप समस्या का हिस्सा हैं या उसके समाधान का। मुझे लगता है कि यह एक ऐसा प्रश्न है जिसे हम प्यार के बारे में पूछ सकते है। क्या यह हमारे जीवन में पूरी तरह से दुख के हल का हिस्सा है या क्या यह केवल उसे बढ़ाता है? इस सवाल का मेरा संक्षिप्त उत्तर है कि यह निर्भर करता है। किस पर? प्यार के स्वभाव पर और इस बात पर कि आप उसकी कैसे देखभाल करते हैं। यहाँ तक कि सबसे शुद्ध प्यार को भी लगातार शुद्ध करने की ज़रूरत होती है।

प्यार को शुद्ध करते रहने की आवश्यक क्यों है? आसान जवाब यह है कि उसकी गंदा हो जाने की प्रवृत्ति है। और जो मिट्टी उसे गन्दा करती है वो है दुख और उस दुःख का कारण है: इच्छा। क्योंकि हम मनुष्य दुख के लेशमात्र की भी इच्छा नहीं रखते और स्वेच्छा से अपनी ओर आने वाली हर ख़ुशी को स्वीकार कर लेते हैं, तो उचित है कि हम कोशिस करें कि प्यार समेत, हम अपने जीवन के विभिन्न पहलुओं को खुशी के उतना अनुकूल और दुःख से उतना बचाकर रखें जितना सम्भव है। प्रेम जीवन का एक हिस्सा है जिसे हमें ज्ञान और समझ के साथ रंग के रखने की ज़रूरत है।

प्यार अन्य भावनाओं के साथ लिपट जाता है, और जिन लोगों ने कभी उसे बारीकी से नहीं देखा है वे प्यार से जुड़ी हुई भावनाओं को गलती से प्यार का हिस्सा, या वास्तव में उसकी अभिव्यक्ति ही मान लेते हैं। आमतौर पर, उदाहरण के लिए, चिन्ताओं और ईर्ष्या को प्यार के दोष समझने के बजाए, हम उन्हें उसका सबूत मान लेते हैं, और इस तरह खुशी-खुशी ऐसी भावनाओं को जगह देते हैं। हमारी प्यार के दोषों की ओर आँखें बंद कर लेने की प्रवृत्ति बन जाती है। अपने आप को अंधा करने के दोष से प्यार करते हैं। यह खतरनाक बात है कि कितनी आसानी से अशुद्धता (यानी नकारात्मक मानसिक अवस्थाएं जैसे लालच, नफरत और भ्रम), जो प्यार को नष्ट कर सकते हैं, एक दिल के अंदर घुस बैठते हैं [...]। अधिकांश लोग एक ऐसे घर के मालिक की तरह हैं जिसमें दरवाजे के बजाय एक बड़ा छेद है। ऐसे घर में किसी को भी अंदर और बाहर जाने की खुली छुट्टी है और इसमें कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि चोरों की कमी नहीं है।

प्यार के बारे में सीखना समझदारी की बात है क्योंकि अपनी प्रकृति को जानना और समझना शांति और खुशी पाने का एकलौता तरीका है जिसे हम मनुष्य पा सकते हैं और जिसकी हमें चाह रखनी चाहिए।

विचार के लिए कुछ मूल प्रश्न: आप इस बात से क्या समझते हैं कि हम चिंताओं और ईर्ष्या जैसी भावनाओं को ग़लती से प्यार का सबूत मान लेते हैं? क्या आप कोई व्यक्तिगत अनुभव बाँट सकते हैं जब आपको अपने प्यार को शुद्ध करने की ज़रूरत का एहसास हुआ हो? अपने प्यार को लगातार शुद्ध करने की ज़रूरत के बारे में सचेत रहने में आप को किस चीज़ से मदद मिलती है?

अजान जयसारो की पुस्तक, प्यार पर, से उद्धरित।
 

excerpted from Ajahn Jayasaro's book, On Love.


Add Your Reflection

7 Past Reflections