Reverence Protects Life

Author
Gary Zukav
30 words, 13K views, 11 comments

Image of the Week
श्रद्धा जीवन की रक्षा करती है

-- गैरी जुकोव द्वारा लिखित ( १३ अप्रैल, २०१६)

जैसे-जैसे आप श्रद्धावान बनने की ओर कदम बढ़ाते हैं, दूसरे लोगों और दूसरे जीवित प्राणियों को नुक्सान पहुंचाने की आपकी प्रवृत्तियाँ कम होने लगती हैं। जैसे-जैसे आप श्रद्धा भाव पाने लगते हैं, इससे पहले की आप कोई काम करने पर अपनी शक्ति लगाएं, आप जीवन के मूल्य के बारे में और गहराई से सोच पाने की क्षमता का विकास करने लगते हैं। जब आप पूरी तरह से श्रद्धावान हो जाते हैं, आप किसी जीव को नुक्सान नहीं पहुंचा सकते, भले ही (या चाहे) आप असशक्त हैं। श्रद्धा के बिना असशक्त होने का अनुभव बहुत ही क्रूर हो सकता है क्योंकि एक शक्तिहीन व्यक्ति एक भयभीत व्यक्ति है, और एक भयभीत व्यक्ति एक ऐसा व्यक्ति है जिसमें श्रद्धा को कोई भाव नहीं है, वह बिना सोचे-समझे किसी को भी नुक्सान पहुंचा देगा या मार डालेगा।

श्रद्धा संरक्षण का एक स्तर है और जीवन की प्रक्रिया को सम्मान देना है ताकि जब एक व्यक्ति उस असली सशक्तता की यात्रा की ओर और उसके दौरान परिपक्व हो रहा है, तब वह किसी को भी नुक्सान नहीं पहुंचाता। क्योंकि हममें कोई श्रद्धा नहीं है, सशक्तिकरण की ओर हमारी यात्रा में अक्सर जीवन को यातना पहुंचाने का अनुभव भी शामिल होता है। इसलिए, यहां पीड़ित और पीड़ा देने वाले दोनों हैं। जब हम जीवन के बारे में सीख रहे हैं, उस दौरान जीवन को नष्ट करने की ये प्रक्रिया, जो हमारे विकास की एक विशेषता रही है, वो बंद हो जाएगी, या अगर हम जीवन को श्रद्दा के भाव से देखें तो कम से कम वह प्रक्रिया बहुत अलग होगी।

ऐसा इसलिए (/जब) होता है क्योंकि हममें श्रद्धा का कोई भाव नहीं है, सारे जीवन की पवित्रता पर कोई पक्का विशवास नहीं है, कि जब हम असशक्तता से सशक्तता की ओर बढ़ते हैं, जीवन को नष्ट और उत्पीड़ित किया जाता है, उस पर अत्याचार होते हैं, उसे भूखा रखा जाता है और उसे विक्लांग बना दिया जाता है। अगर विकास की प्रक्रिया में श्रद्धा की भावना को ले आया जाए, तो जैसे हममें से हर एक, और हमारी जाति, असशक्तता से सशक्तता के कालचक्र में से गुज़रते हैं, तो इस विकास की प्रक्रिया में समाहित बहुत सी सीखें उस हद तक अत्याचार और भय पैदा नहीं करेंगे जैसा कि अभी अनुभव किया जाता है।

[...]

अगर हम जीवन को श्रद्धा के साथ देखें और विकास की प्रक्रिया को समझ पाएं, तो हम भौतिक जीवन के अनुभव को विस्मय के भाव से देखेंगे, और इस धरती पर कृतज्ञता की गहन भावना के साथ चलेंगे।

विचार के लिए कुछ मूल प्रश्न:आप इस धारणा से क्या समझते हैं कि श्रद्धा के बिना सशक्तिकरण जीवन को नुकसान पहुंचाने का कारण बन सकता है? क्या आप कोई व्यक्तिगत अनुभव बाँट सकते हैं जब आपने सशक्त होने के साथ एक गहरी श्रद्धा का अनुभव किया हो? जीवन के प्रति श्रद्धा बनाए रखने में आपको किस चीज़ से मदद मिली है?

ऊपरी लेख "आत्मा की गद्दी” (सीट ऑफ़ डी सोल) से लिया गया है। गैरी ज़ूकोव एक प्रसिद्ध अमेरिकी आध्यात्मिक शिक्षक हैं और लगातार चार न्यूयॉर्क टाइम्स की बेस्ट सेलर्स के लेखक हैं। गैरी अब “द सीट ऑफ़ द सोल इंस्टिट्यूट” के माध्यम से काम करते हैं, जो पूरे विश्व में लोगों में अर्थ और उद्देश्य, रचनात्मकता और स्वास्थ्य, खुशी और प्यार उत्पन्न करने में मदद करता है।




 

The above is excerpted from "Seat of the Soul." Gary Zukav is a renowned American spiritual teacher and the author of four consecutive New York Times Best Sellers. Gary now works through The Seat of the Soul Institute, which assists people across the world in creating meaning and purpose, creativity and health, joy and love.


Add Your Reflection

11 Past Reflections