Sincerely Enthusiastic

Author
Gretchen Rubin
32 words, 46K views, 11 comments

Image of the Weekसचमुच उत्साहित
-ग्रेचेन रुबिन (१८ फ़रवरी )

मैं और हंसना चाहती थी, मैं और अधिक सद्भावपूर्ण प्यार देना चाहती थी, और मैं और अधिक अत्साहित भी होना चाहती थी। मैं जानती थी कि आलोचना करना अच्छी बात नहीं है लेकिन उसमें मज़ा आता था। दूसरों में बुराई देखने में इतना आनंद क्यों आता है? औरों में मीन-मेख निकालने से मुझे लगता था कि मैं ज़्यादा समझदार और बुद्धिमान हूँ - और असल में, स्टडीज़ दिखाती हैं कि जो लोग दूसरों की आलोचना करते हैं, वे ज़्यादातर ज़्यादा विचारशाली माने जाते हैं। उदाहरण के लिए, एक स्टडी में लोगों ने किताबों के प्रतिकूल समीक्षा लिखने वालों को अनुकूल समीक्षा लिखने वालों से अधिक माहिर और योग्य पाया, जबकि दोनों तरह की समीक्षाओं के विषय को उत्तम माना गया। एक और स्टडी से पता चला कि लोगों का सोचना है कि जो उनकी आलोचना करता है वो उनसे ज़्यादा समझदार है। इसके अलावा, जब कोई व्यक्ति एक समूह की एकमतता को तोड़ता है, तो वह व्यक्ति उस समूह की सामाजिक शक्ति को कम करता है। मैंने लोगों को इस प्रक्रिया का फायदा उठाते देखा है; जब कोई समूह बहुत खुशी से ऐसे विषयों पर एकमत होता है, जैसे,”ये अध्यापक बहुत उत्तम काम कर रहे हैं” या “ये रेस्टोरेंट बहुत अच्छा है,” तो यह व्यक्ति एकदम उल्टा मत देकर सारे समूह का मूड खराब कर देता है। आलोचनात्मक होने के भी अपने ही फायदे हैं, और साथ ही मुश्किल से खुश होने वाला व्यक्ति होना आसान काम है। वैसे उत्साहित होना आसान लगता है, लेकिन वास्तव में किसी चीज़ को पूरी तरह स्वीकार करना, उसकी उपेक्षा करने से अधिक मुश्किल है। ऐसा करने में जोखिम है।

जब मैंने औरों के लिए अपनी प्रतिक्रियाओं को देखा, तो मैंने पाया कि मैं अक्सर उन लोगों को ज़्यादा समझदार और अनुभवी समझती हूँ जो आलोचनात्मक बातें कहते हैं। साथ ही, जबकि, ऐसे इंसानों के साथ समय गुज़ारना बहुत मुश्किल है जिन्हें किसी चीज़ में कुछ भी अच्छा नहीं दिखता। मुझे उत्साही लोगों के साथ समय गुज़ारना ज़्यादा पसंद है, जो कम आलोचनात्मक, ज़्यादा ज़िंदादिल और ज़्यादा मज़ेदार लगते हैं।

उदाहरण के लिए, एक शाम, एक करीबी दोस्त के जन्मदिन के लिए उसे हैरान करने के लिए, हम बैरी मनिलो के शो में गए, क्योंकि मेरे दोस्त को बैरी मनिलो बहुत पसंद है। बाद में, मैंने सोचा कि बैरी मनिलो का इतना बड़ा प्रशंसक होना बड़ी हिम्मत की बात है। आखिर, बैरी मनिलो तो बैरी मनिलो ही है। उनके संगीत को जैसे मेरी दोस्त पुरे दिल से पसंद करती थी, उसकी बजाए उस का मज़ाक उड़ाना या उसे व्यंग्यात्मक तौर से पसंद करना आसान है। उत्साह सामाजिक साहस का एक रूप है। इसके अलावा, लोगों की राय औरों की राय से बहुत हद तक प्रभावित होती है। तो जब मेरी दोस्त ने कहा, “ ये कमाल का संगीत है, ये बहुत अच्छा शो है,” उसके उत्साह ने मुझे भी उत्साहित कर दिया।

मैं ऐसी उमंग को गले लगाना चाहती थी। मैंने सोच लिया कि मुझे अपने आप को इन खास किस्म की बेकार नकारात्मक बातें कहने से रोकना है: ‘सच में मेरा जाने का मन नहीं है,’ ‘खाना बहुत भारी था,’ ‘पेपर में पढ़ने लायक कुछ भी नहीं है.’ इसके बजाय, मैंने ईमानदारी से उत्साहित होने के तरीके ढूंढने की कोशिश की।

विचार के लिए बीज प्रश्न: आप ईमानदारी से उत्साहित होने से क्या समझते हैं? क्या आप अपना कोई अनुभव बाँट सकते हैं जहां, आलोचना करने की तेज़ इच्छा होने के बावजूद आपने अपने आप को ईमानदारी से उत्साहित होने दिया हो? ऐसा कौनसा अभ्यास है जो आपको ईमानदारी से उत्साहित होने के सामाजिक साहस को विकसित करने में मदद करता है?

ग्रेचेन रुबिन एक अमेरिकी लेखक, ब्लॉगर और वक्ता हैं। वह बहुत बिकने वाली पुस्तक “खुशी का प्रोजेक्ट” की लेखिका हैं (“दी हैपीनेस प्रोजेक्ट”): या मैंने एक साल सुबह में गाने, अपनी अलमारियां साफ़ करने, अरस्तु को पढ़ने और आमतौर पर मज़ा करने की कोशिश में कैसे बिताया।
 

Gretchen Rubin is an American author, blogger and speaker.[1] She is author of the best selling The Happiness Project: Or Why I Spent a Year Trying to Sing in the Morning, Clean My Closets, Fight Right, Read Aristotle, and Generally Have More Fun,


Add Your Reflection

11 Past Reflections