Why Do We Shout In Anger?

Author
Unknown
47 words, 129K views, 73 comments

Image of the Weekहम क्रोध में चिल्लाते क्यों है?

एक संत नदी के किनारे स्नान करने जा रहा था| उसने देखा कि परिवार के कुछ सदस्य एक दूसरे पे चिल्ला रहे थे| वह अपने शिष्यो के पास गया और मुस्कुराके पूछा

"लोग जब गुस्से में होते है तो एक दूसरे पे चिल्लाते क्यों है"?

शिष्यो ने कुछ देर तक सोचा और फिर उनमे से एक ने कहा "क्योकि हम अपने मन कि शांति खो देते है, हम चिल्लाते है"|

'परन्तु, जब सामने वाला व्यक्ति आपके पास खड़ा होता है, तो आपको चिल्लाने कि जरुरत क्यों पड़ती है? आप को उनसे जो भी कहना है वो आप नम्रता से भी तो कह सकते है" संत ने शिष्यो से पूछा
शिष्यो ने कुछ जवाब दिए लेकिन कोई भी जवाब सन्तोषकारक नहीं था |

आख़िरकार संत ने समजाया,
जब दो व्यक्ति एक दूसरे पे गुस्सा करते है तो उनके दिलो के बिच कि दुरिया काफी बढ़ जाती है| उस अंतर को दूर करने के लिए उनको चिल्लाना पड़ता है| वह जितने ज्यादा क्रोधित होते है उतने ही उनके दिल ज्यादा दूर हो जाते है और उतना ही ज्यादा उन्हें चिल्लाना पड़ता है |

जब दो व्यक्ति प्रेम में होते है तब क्या होता है? तब वह एक दूसरे पे चिल्लाते नहीं है पर नम्रता से बाते करते है, क्योकि उनके दिल काफी नज़दीक होते है| उनके दिलो के बिच का अंतर शुन्य के बराबर या काफी कम होता है..'

फिर संत ने कहा. "जब वह एक दूसरे से और ज़यादा प्रेम करते है तब क्या होता है? तब वह बाते नहीं करते, सिर्फ कान में धीरे से गुनगुनाते है और वह प्रेममे ओर करीब आते है| एक वक्त आता है जब वह कान में बाते करना भी बंध कर देते है ओर बस एक दूसरे कि ओर देखते है| जब दो व्यक्ति प्रेम में होते है तब वह इतने करीब होते है सिर्फ इशारे ही काफी होते है|
संत ने शिष्यो कि ओर देखा ओर कहा,

"तो जब आप बहस करते हो तब अपने दिलो को दूर मत जाने दो| ऐसे शब्द मत कहो जो आपके दिलो के बिच कि दुरिया बढ़ाये| वरना एक दिन ऐसा आयेगा कि आपके दिलो के बिच कि दुरिया इतनी बढ़ जायेगी कि आपको वापस आने का रास्ता ही नहीं मिलेगा"|


प्रतिबिम्ब के लिए कुछ प्रश्न
आपके लिए संचार कि तीव्रता ओर दिलो के बिच के अंतर में क्या सबंध है? जब हम गुस्सा करते है या कोई हम पर गुस्सा करता है तो हम दिलो के बिच के अंतर को केसे मिटा सकते है? क्या आप खुदका कोई अनुभव बता सकते हो जो दिलो कि दूरियों को मिटाने का उदहारण देता हो?


Add Your Reflection

73 Past Reflections