Beggarly, Friendly, And Kingly Giving

Author
Stephen Levine
47 words, 58K views, 16 comments

Image of the Weekनिर्धन, दोस्ताना, और आलीशान देना

स्टेफन लेविन

सबसे बड़ा उपहार देने का कार्य है. परंपरागत रूप से, देने के तीन प्रकार हैं| एक है निर्धन (भीख) देना. जहा पर हम जो देते है उसे असल में पकडे रखते है| यहाँ पर हम हमारे पास जो भी है उससे कम से कम देते है| और फिर सोचते है की हमें देना चाहिए था भी या नहीं|

देने का दूसरा प्रकार है जिसे "दोस्ताना" कहा जाता है| जिसमे हम हमसे जितना हो सके उतना देते है| फिर चाहे हमारे पास कुछ न बचा रहे जाये| हम सहज से ही सबसे अच्चा देने की कोशिश करते है| हम अपने आपको प्रदान की गयी हर चीज़ के सिर्फ अस्थायी रखवाले के रूप में देखते है| जिसमे देना कुछ नहीं होता है| वो सिर्फ एक विस्तार है जिसमे चीज़े बहती जाती है|

हम सबने अपने जीवन में इस प्रकार के देन का अनुभव किया है| किसी और को देना और खुद को देना | हम सब जानते है की कैसा अनुभव होता है जब हम कुछ देते वक्त एक पकड़ जमाते है| कुछ देते समय हम सोचते है "क्युकी मेने कुछ किया है तो क्या मुझे प्रेम मिलेगा?" हम अपने आप को एक दाता की तरह देखते है| हमने तब भी कुछ दिया है जब हमें ये जरुरत महसूस हुई की चीजों को दुसरो के हाथो में पहोचानी चाहिए, बस एक प्रवाह की तरह चीजों को बहना चाहिए| ये उस तरह का देना है जो चिकित्सको के पास से आता है| वो उसे पकड़ के नहीं रखते | जीवनकी उर्जा उनमे से बहती रहती है| असल में कोई इलाज कर नहीं रहा होता बस इलाज अपने आप होता जाता है| उसे कहते है आलीशान तरह से देना|

आम तोर पर जेसे हम अपने आपमे विकसित होते है हम अपने आपको प्रमाणिकता से खुले हाथ से देता हुआ पाते है| वो अच्छा लगता है| वो हमें ऐसी दोस्ती और प्यार देता है जो हमें और विकसित करता है|
सहीमे, देने की कला अपने आपमे एक पूरा अभ्यास है| कई बार ध्यान देते समय हम निर्धन बन जाते है और अपने आपको दूर नहीं ले जा सकते | हम चीजों को पकड़ के रखते है| अपने मन की कुछ स्थितिओ को रोक के रखते है| एक हाथसे अपने आप को देने की कोशिश करते है लेकिन दुसरे हाथसे पकडे रखते है| हम हर वक्त ये देखते रहते है की हम क्या कर रहे है, मापते है की हम अभी कौन है और मूल्यांकन करते रहते है| लेकिन जेसे ही हम जागृत होते है हम अपने आपको और दूर करते जाते है|

और जैसे जैसे हम खुदको खुदसे अधिक देते है हम स्वाभाविक रूप से खुदको दुसरो के लिए अधिक देना शुरू कर देते है| हम लोगो के साथ एसे जुड़ते है की जिससे लोग खुदसे आसानी से जुड़ सके| हम वो नहीं बनते जो किसी को किसी भी अन्य तरीके से कार्य करने के लिए प्रोत्साहित करता है| हम एक खुली जहग है, हम कुछ पकड़ के नहीं रखते, सब कुछ देते जाते है.

स्टेफन लेविन - ग्रेजुअल अवेकनिंग से
-------------------------------

आत्म-निरिक्षण के लिए प्रश्न
आप अपने आपको देने के इस तिन प्रकार से केसे सम्बंधित करते है ? क्या आप अपने जीवनके किसी आलीशान देन का अनुभव बता सकते है? देना एक अभ्यास है - इसे आप कैसे समजते है?
 

Stephen Levine is a celebrated author. Excerpt above from his book, Gradual Awakening.


Add Your Reflection

16 Past Reflections