Rich Man And The Beggar


Image of the Weekअमीर आदमी और भिखारी
- हिंदू दृष्टांत (लेखक अज्ञात)


कई साल पहले, एक व्यक्ति नदी के किनारे एक शांत चिंतन में बैठा था, जब पास के एक गांव के एक भिखारी ने उसे चिंतन से जगाया।

"वह पत्थर कहाँ है?" भिखारी ने मांग की। "मुझे वह कीमती पत्थर चाहिए!"

वह आदमी उसे देखकर मुस्कुराया। "आप किस पत्थर की तलाश करते हैं?"

"मुझे एक सपना आया," भिखारी ने उसी तेज़ी से अपना बोलना जारी रखा,"और उस सपने में एक आवाज ने मुझसे कहा कि अगर मैं नदी किनारे जाता हूं तो मुझे एक आदमी मिलेगा जो मुझे एक कीमती पत्थर देगा। उससे मेरी गरीबी हमेशा के लिए खत्म हो जायेगी!”

आदमी ने कुछ विचार किया, फिर अपने बस्ते में हाथ डालकर एक बड़ा सा हीरा निकाला।

"क्या यह वह पत्थर था?" आदमी ने पूछा। “मुझे यह रास्ते में मिला था। यदि आप चाहें, तो आप निश्चित रूप से यह रख सकते हैं।”

भिखारी को अपनी किस्मत पर यकीन नहीं हो रहा था, और इससे पहले की उस आदमी का मन बदले, उसने पत्थर को आदमी के हाथ से छीन लिया और वापस गाँव भाग गया।

एक साल बाद, भिखारी, जो अब एक धनी व्यक्ति के कपड़े पहने हुए था, अपने गुमनाम दाता की तलाश में नदी तट पर वापस आया।

"तुम वापस आ गए, मेरे दोस्त!" उस आदमी ने कहा, जो फिर से अपने पसंदीदा स्थान पर बैठा था और अपने सामने पानी के शांतिपूर्ण प्रवाह का आनंद ले रहा था। "कहो क्या हुआ?"

भिखारी ने आदमी के सामने खुद को दीन बना लिया।

उन्होंने कहा, ''आपने मुझे जो हीरा दिया उसके कारण कई अद्भुत चीजें हुई हैं। मैं धनी हो गया हूं, शादी करी और घर खरीद लिया। मैं अब दूसरों को रोज़गार दे सकता हूँ और जो मैं चाहता हूँ, जिस के साथ चाहता हूँ, वह कर सकता हूँ। ”

"आप किस लिए लौटे हैं?" आदमी से पूछा।

अमीर भिखारी ने बहुत दीनता से कहा। "कृपया मुझे वह सिखाओ जो कुछ भी तुम्हारे अंदर है उसने तुम्हें मुझे वह पत्थर इतनी आसानी से देने की अनुमति दी।"

मनन के लिए मूल प्रश्न: आप उस अनासक्ति की भावना से कैसे संबद्ध हैं जिसने आदमी को एक कीमती पत्थर देने की अनुमति दी? क्या आप उस समय की एक व्यक्तिगत कहानी साझा कर सकते हैं जब आप उस वस्तु को बिना लगाव के देने में सक्षम थे जिसे अन्य लोग बहुत मूल्यवान मानते हो ? आप को उस बहुतायत की भावना- जो भौतिकता से परे जाती है- विकसित करने में क्या मदद करता है?


Add Your Reflection

16 Past Reflections