Generosity Helps Us Accept Change

Author
Sharon Salzberg
23 words, 12K views, 6 comments

Image of the Weekउदारता हमें परिवर्तन को स्वीकार करने में मदद करती है
- शेरोन साल्ज़बर्ग

उदारता का अभ्यास करने का उद्देश्य दोहरा है, अन्यथा यह एक अधूरा अनुभव है।

पहला उद्देश्य हमारे मन को उन ताकतों से मुक्त करना है जो हमें बांधती हैं और सीमित करती हैं। तृष्णा, लगाव और आसक्ति बंधन में बांधती हैं और आत्मसम्मान की कमी करती हैं। यदि हम स्वयं को संपूर्ण करने के लिए हमेशा किसी व्यक्ति या वस्तु की तलाश में रहते हैं, तो हम हर पल में खुद की सम्पूर्णता का अनुभव करने से चूक जाते हैं। यह केवल एक मृगतृष्णा पर झुकाव की तरह है, जो हमें संभाल नहीं सकता है; यहां तो कुछ नहीं है।

जब हम लगातार अगले अनुभव और अगले आनंद की तलाश में प्रेरित रहते हैं, तो यह एक मृगतृष्णा से दूसरे में जाने जैसा है। हमारी कोई सुरक्षा नहीं है। कुछ भी हमें संभाल नहीं रहा है। हम मन को उस भ्रम से मुक्त करने के लिए उदारता का अभ्यास करते हैं, लालसा और जकड़न की ताकतों को कमजोर करने के लिए, ताकि हम सच्ची खुशी पा सकें।

हम दूसरों को मुक्त करने के लिए, सभी जीवों के कल्याण और खुशी को बढ़ाने के लिए, किसी तरह से, जितना हम में से हर एक कर सकता है, इस दुनिया में दुख को कम करने के लिए भी उदारता का अभ्यास करते हैं। जब हमारी उदारता का अभ्यास वास्तविक और संपूर्ण है, तब हमें आंतरिक विशालता और शांति का एहसास होता है, और हम सभी जीवित प्राणियों की असीम देखभाल करना भी सीखते हैं।

उदारता का अभ्यास करते समय दिल की धड़कन बिलकुल वैसी होती है जैसी तब होती है जब आप अपने भीतर जाते हैं। तो उदारता का बाहरी अभ्यास हमारी आंतरिक भावना - ध्यान के स्वर - को प्रभावित करता है और आंतरिक अभ्यास हमारी बाहरी उदारता को। यदि हम उदार हृदय की खेती करते हैं, तो अधिकांश चीज़ों को, हम बिना शर्त वैसे ही रहने दे सकते हैं, जैसी वे हैं। हम वर्तमान समय की सच्चाई को स्वीकार कर सकते हैं, बजाय उस पर लगातार परिस्थितियों को लागू करने की कोशिश किये; कि यह इस तरह से या उस तरह से होना चाहिए अन्यथा आप खुश नहीं हो सकते। आपका बैठना सही होना चाहिए अन्यथा आप खुश नहीं होंगे। आपको कोई बेचैनी नहीं होनी चाहिए नहीं तो आप अपने बारे में अच्छा महसूस नहीं करेंगे। वास्तविकता हमारे नियंत्रण के बाहर चलती है, और फिर भी हम इन सभी शर्तों को उस पर थोपते हैं। उदारता इस संपूर्ण नियंत्रण की मानसिकता को तोड़ने में मदद करती है।

हमारी उदारता की ताकत परिवर्तन को स्वीकार करने की हमारी क्षमता का एक प्राथमिक कारक है।

मनन के लिए मूल प्रश्न: आप इस धारणा से कैसे सम्बद्ध हैं कि हमारी उदारता की ताकत परिवर्तन को स्वीकार करने की हमारी क्षमता का एक प्राथमिक कारक है? क्या आप किसी ऐसे समय की व्यक्तिगत कहानी साझा कर सकते हैं जब आपने देखा हो कि उदारता का अभ्यास करते समय आपके दिल की धड़कन बिलकुल उस तरह थी जैसी अपने भीतर जाते समय होती है ? एक उदार दिल की खेती में आपको क्या मदद करता है?

शेरोन साल्ज़बर्ग लंबे समय से ध्यान शिक्षक हैं। उपरोक्त अंश इस लेख से।
 

Sharon Salzberg is a long-time meditation teacher; excerpt above from this article.


Add Your Reflection

6 Past Reflections