Spiritual Life Begins Within The Heart

Author
Joan Chittister
26 words, 12K views, 9 comments

Image of the Weekआध्यात्मिक जीवन मन के भीतर शुरू होता है
- जोबन चिटिस्टर (२४ जून, २०१९)

सच यह है कि हम अपना जीवन विरोधाभास के केंद्र में बिता देते हैं। जो एक ओर निश्चित रूप से सत्य लगता है वही दूसरी ओर असत्य लगता है। जीवन असंगतियों से बना है: जीवन मृत्यु में समाप्त होता है; जो चीज हमें खुशी देती है वह निश्चित रूप से हमें समान और बराबर मात्रा में दुःख पहुंचाएगी; पूर्णता एक बहुत ही अपूर्ण अवधारणा है; हर इस क़िस्म की निष्ठा समर्थन का वादा करती है लेकिन अक्सर खत्म भी हो जाती है।

हम इन बातों का हिसाब कैसे दे सकते हैं? हम उनसे कैसे निपट सकते हैं? हम उनमें उतना मज़ा कैसे पा सकते हैं, जितना उनमें भ्रम है? ये ऐसे प्रश्न हैं जो दूर नहीं होंगे लेकिन जो, हर युग के आध्यात्मिक दिग्गजों को पता थे, अगर हम कभी भी उनके आंदोलन से ऊपर उठना चाहते हैं तो हमें उनका सामना करना होगा। जीवन में एक समय आता है जब इसके विरोधाभासों पर न केवल विचार किया जाना चाहिए, बल्कि उन्हें छोड़ देना चाहिए।

उदाहरण के लिए, प्रारंभिक संन्यासी आध्यात्मिकता का महान सत्य इस जागरूकता में निहित है कि केवल जब जीवन पारगमन की आभा में जिया जाता है, उस आत्मा की खोज में जो हमारे जीवन के सामान्य स्थानों में मौजूद है, जहां विरोधाभास होते हैं, क्या हम संभवतः पूर्णता से जीवन जी सकते हैं, जीवन को उसकी गहराई तक ले जा सकते हैं। [...]

उस औसत व्यक्ति के लिए जिसका जीवन ख़ासतौर पर उसकी सामान्यता के कारण सबसे अधिक अनुकरणीय है - उदाहरण के लिए, आप और मेरे जैसे लोगों के लिए - यह वो है जो हमारे भीतर चलता है जो स्वस्थ जीवन और वास्तविक आध्यात्मिकता के लिए मायने रखता है।
स्पष्ट रूप से, आध्यात्मिक जीवन एक व्यक्ति के मन के भीतर शुरू होता है। और जब अंदरूनी तूफान घट जाते हैं, तो हमारे आसपास की दुनिया भी शांत और साथ ही स्थिर हो जाएगी। या इसे दूसरे तरीके से देखें, तो यह लालच था जिसने वॉल स्ट्रीट को तोड़ दिया, न कि वित्तीय एल्गोरिदमों की कमी। जो कुछ भी है जिसे हम अपने जीवन की रातों में अपनी आत्मा में जगह देते हैं वही है जिसे हम दिन के घंटों के दौरान जिएँगे।

जीवन के सार और उद्देश्य पर यह एक-चित्त एकाग्रता, और साथ ही आंतरिक शांति और संयम पर ध्यान केंद्रित करने, आत्मा के बीचों-बीच सफेद रोशनी और गहरी गर्मी में जीवन व्यतीत करने की राह बनाते हैं। जीवन की विकलता और क्षुद्र खामियों से ग्रस्त होने के बजाय, अपने भीतर की आत्माओं पर केंद्रित होना, आत्मा को अपनी स्थिरता प्रदान करता है, चाहे आपके आसपास, निपटने के लिए किसी भी स्तर की अशांति क्यूँ न हो।[...]

यह हमारे अपने समय के विरोधाभास हैं, जो हमारे भीतर घात लगाए रहते हैं, जो हमें भ्रमित करते हैं, हमारी शक्ति को चूस लेते हैं, और अंत में, जीवन की सामान्यता के लिए हमारी ताकत को काम करते हैं। वे हमें अपनी गहराई में बुलाते हैं। हमें जीवन के पीछे के जीवन को देखने के लिए मजबूर करते हैं । हमारे और हमारे आस-पास के जीवन के विरोधाभासों का सामना करते हुए, ख़ुद के लिए उनके अर्थ पर विचार करते हुए, अंततः और अंत में, हमारे स्वयं के जीवन में आत्मा की करतब को जगह देते हैं।

विचार के लिए मूल प्रश्न: आप इस धारणा से क्या समझते हैं कि आध्यात्मिक जीवन हमारे हृदय के भीतर से शुरू होता है? क्या आप उस समय के अनुभव को बाँट सकते हैं जब आपने ख़ुद को जीवन के उलटफेर के बजाय अपने अंदर की आत्मा पर केंद्रित किया हो? आपके आसपास के जीवन के विरोधाभास का सामना करने में आपको क्या मदद करता है?

सिस्टर जोआन चिटिस्टर अपनी किशोरावस्था से ही नन रही हैं, वो न्याय की वकालत करने वाली और 50 से अधिक पुस्तकों की लेखिका हैं। यह अंश उनकी पुस्तक “अंधेरे और दिन के उजाले के बीच” से है।
 

Sister Joan Chittister has been a nun since her teen years, is an advocate for justice, and authored more than 50 books. Excerpted from her book Between the Dark and the Daylight.


Add Your Reflection

9 Past Reflections