The Sacred Art of Pausing

Author
Tara Brach
47 words, 30K views, 11 comments

Image of the Weekठहरने की पावन कला
- तारा ब्रैक द्वारा लिखित ( ३ मई, २०१७)

अपने जीवन में हम अक्सर खुद को ऐसी स्थितियों में पाते हैं, जिन पर हम नियंत्रण नहीं कर सकते, ऐसी परिस्थितियां जिनमें हमारी कोई भी तरकीब काम नहीं करती। असहाय और परेशान, हम हताशापूर्वक जो हो रहा होता है, उसे निपटाने की कोशिश करते हैं। हमारा बच्चा पढ़ाई में नीचे जाने लगता है और हम उसे ठीक रास्ते में लाने के लिए एक धमकी के बाद दूसरी धमकी देते हैं। कोई हमारा मन दुखाने के लिए कुछ कहता है और हम तुरंत वापिस हमला करते हैं या पीछे हट जाते हैं। हम काम पर एक गलती करते हैं और हम उसे छुपाने या उसे सुधारने के लिए कुछ भी करने को तैयार हो जाते हैं। हम भावना के आवेग से भरी तकरारों में रिहरसल करते या तरकीब बनाते हुए पहुंचते हैं।

जितना अधिक हम विफलता से डरते हैं उतनी ही अधिक उत्तेजना से हमारे शरीर और मन काम करते हैं। हम अपने दिनों को निरंतर गतिविधियों से भर लेते हैं: मानसिक योजनाएँ बनाना और चिंता करना, आदतन बात-चीत करना, कुछ बनाना, खरोंचना, सुलझाना, फोन करना, चाय-नाश्ता करना, फेंकना, खरीदना, आईने में देखना।

क्या हो अगर इस व्यस्तता के बीचों-बीच में, हम सोच-समझकर नियंत्रण से अपने हाथ हटा लें? क्या हो यदि हम जानबूझकर हमारी मानसिक गणनाओं को और हमारे चारों ओर भागते रहने को रोक लें, और एक या दो मिनट के लिए, बस ठहर जाएं और अपने आंतरिक अनुभव पर ध्यान दें?

ठहरना सीखना मूल स्वीकृति (Radical Acceptance)के अभ्यास में पहला कदम है। एक विराम गतिविधि में रुकावट है, एक अस्थायी छुट्टी का समय जब हम अब अपने किसी लक्ष्य की ओर नहीं बढ़ रहे। वह विराम लगभग किसी भी गतिविधि के बीच आ सकता है और एक क्षण के लिए, कुछ घंटों के लिए या हमारे जीवन की कुछ ऋतुओं के लिए रह सकता है।

हम अपनी रोज़मर्रा की ज़िम्मेदारियों से, ध्यान के लिए बैठने से, एक विराम ले सकते हैं। हम ध्यान के बीच में विचारों को छोड़ कर और सांस पर पुनः अपना ध्यान खींच कर, कुछ ठहर सकते हैं। हम अपने रोज़-मर्रा के जीवन से निकल कर किसी साधना शिविर में जाने के लिए या प्रकृति में समय व्यतीत करने के लिए या काम से अध्ययन के लिए छुट्टी ले कर, कुछ ठहर सकते हैं। हम एक वार्तालाप में विराम ले सकते हैं, जो हम कहने जा रहे थे, उसे छोड़कर, ताकि हम वास्तव में दूसरे व्यक्ति की बात को सुन सकें और उस के साथ उपस्थित हो सकें। हम तब ठहर सकते हैं , जब हम अचानक द्रवित, या खुशी या दुख महसूस करते हैं, ताकि हम उन भावनाओं को अपने दिल में पूरी तरह से महसूस होने दे सकें। एक विराम में हम जो कुछ भी कर रहे हैं - सोचना, बोलना, चलना, लिखना, योजना बनाना, चिंता करना, खाना-पीना - सब रोक देते हैं और पूरे मन से से उपस्थित हो जाते हैं, ध्यान देते हैं और अक्सर, शारीरिक रूप से स्थिर हो जाते हैं।

एक विराम, प्राकृतिक रूप से, समयबद्ध होता है। हम अपनी गतिविधियों को फिर से शुरू कर लेते हैं, लेकिन हम ऐसा ज़्यादा उपस्थिति के साथ और अच्छे चुनाव करने की अधिक क्षमता के साथ करते हैं। अपने दांतों से एक चॉकलेट बार को चबाने से पहले के विराम में, उदाहरण के लिए, हम प्रत्याशा की उत्साहपूर्ण झुनझुनाहट को पहचान सकते हैं, और शायद पृष्ठभूमि में उठते अपराध बोध और आत्म-निर्णय के बादल को भी। फिर हम चॉकलेट खाने का चयन कर सकते हैं, स्वाद की संवेदनाओं का पूरी तरह से मज़ा ले सकते हैं या हम चॉकलेट खाने का विचार छोड़ सकते हैं और इसके बजाय बाहर दौड़ लगाने के लिए जाने का फैसला कर सकते हैं। जब हम ठहरते हैं, हम नहीं जानते कि आगे क्या होगा। लेकिन अपने अभ्यस्त व्यवहार में बाधा डाल कर , हम अपनी इच्छाओं और डर की ओर नए और रचनात्मक तरीकों से प्रतिक्रिया दिखाने की संभावना के लिए तैयार हो जाते हैं।

बेशक ऐसे समय भी होते हैं जब यह विराम लेना उपयुक्त नहीं है। यदि हमारा बच्चा एक व्यस्त सड़क की तरफ भाग रहा है, तो हम रुकते नहीं। अगर कोई हमें मारने के लिए बढ़ रहा है, तो हम सिर्फ वहां खड़े नहीं रहते, बल्कि हम जल्दी से खुद को बचाने का कोई रास्ता खोजते हैं। यदि हमारा जहाज़ उड़ने वाला है, तो हम गेट की ओर दौड़ते हैं। लेकिन हमारी ज़्यादातर उत्तेजित गति और रोजमर्रा की जिंदगी में अभ्यस्त नियंत्रण हमें जीवित रहने में, और निश्चित रूप से हमारी संपन्नता में मदद नहीं करते। यह किसी चीज़ के गलत होने या पर्याप्त नहीं होने के बारे में एक बेमतलब की चिंता से उत्पन्न होती है। यहां तक ​​कि जब हमारे डर वास्तविक असफ़लता, हानि या भले ही मृत्यु की वजह से उठते हैं, फिर भी हमारी सहज खिचावट और कोशिश अक्सर अप्रभावी और मूर्खतापूर्ण होती हैं।

नियंत्रणों से अपने हाथ हटाना और ठहरना उन ज़रूरतों और डरों को स्पष्ट रूप से देखने का एक अवसर है, जो हम पर असर डाल रहे हैं। विराम के क्षणों के दौरान, हम इस बात के लिए जागरूक हो जाते हैं कि कैसे यह भावना कि कुछ खोया हुआ है या कुछ गलत है, हमें भविष्य की ओर झुकाता है, हमें किसी और राह पर ले जाता हुआ। यह हमें एक मौलिक विकल्प देता है कि हम क्या प्रतिक्रिया दें : हम अपने अनुभव को प्रबंधित करने के बेकार प्रयासों को जारी रख सकते हैं, या फिर हम अपनी अतिसंवेदनशीलता को मूल स्वीकृति (Radical Acceptance) के ज्ञान से देख सकते हैं।

अक्सर जब हम को ठहरने की सबसे ज्यादा ज़रूरत होती है, तभी ऐसा होता है िक ऐसा करना सबसे अधिक असहनीय लगता है। क्रोध की स्थिति में ठहरना, या जब हम दुःख से अभिभूत हों या इच्छाओं से भरे हों, उस समय ठहरना वह आखिरी काम है जो हम करना चाहते हैं। ठहरना ऐसा महसूस हो सकता है जैसे अंतरिक्ष से असहाय रूप से हम गिर रहे हों - हमें पता नहीं कि अब क्या होगा। हम डरते हैं कि हम शायद अपने गुस्से या दुःख या इच्छा की ताकत से घिर जाएंगे। फिर भी उस क्षण के वास्तविक अनुभव की और अपने आप को खोले बिना, मूल स्वीकृति (Radical Acceptance )संभव नहीं है।

ठहरने की पावन कला के माध्यम से, हम छुपने से रुकने और अपने अनुभव से भागने को रोकने की क्षमता का विकास करते हैं। हम अपनी प्राकृतिक बुद्धि, अपने स्वाभाविक रूप से बुद्धिमान हृदय, जो कुछ भी पैदा होता है उसकी ओर अपने मन को खोलने की क्षमता पर विश्वास करना शुरू करते हैं। जैसे एक सपने से जागने की तरह, ठहरने के क्षण में हमारी बेहोशी समाप्त हो जाती है और मूल स्वीकृति (Radical Acceptance) संभव हो जाती है।

विचार के लिए कुछ मूल प्रश्न: आप नियंत्रण से अपने हाथों को जानबूझ कर हटाकर और अपने आंतरिक अनुभव पर ध्यान देने से क्या समझते हैं? क्या आप कोई व्यक्तिगत अनुभव बाँट सकते हैं जब आपने ऐसा किया हो? एक पावन ठहराव लेने के बारे में याद रखने में आपको किस चीज़ से मदद मिलती है?

यह “हियर”(here) से अवतरित है। तारा ब्रैक की शिक्षाएं पश्चिमी मनोविज्ञान और पूर्वीय आध्यात्मिक साधनाओं को, अपने आंतरिक जीवन पर सचेत ध्यान देने, और अपने संसार के साथ सम्पूर्ण, संवेदनशील व्यवहार रखने को जोड़ती हैं।
 

Excerpted from here. Tara Brach’s teachings blend Western psychology and Eastern spiritual practices, mindful attention to our inner life, and a full, compassionate engagement with our world. 


Add Your Reflection

11 Past Reflections