I-It and I-Thou

Author
David Brooks
87 words, 20K views, 7 comments

Image of the Weekमैं-यह और मैं-तुम
- डेविड ब्रूक्स द्वारा लिखित (१५ मार्च, २०१७)
(मार्टिन बुबर द्वारा "मैं-तुम" पर चिंतन)

मैं-यह संबंध दो किस्मों में आते हैं।

कुछ सिर्फ उपयोगितावादी होते हैं। आप कुछ व्यावहारिक चीज़ों के लिए जानकारी का आदान-प्रदान कर रहे हैं, जैसे अपनी टैक्स रिटर्न भरना।

लेकिन अन्य मैं-यह रिश्ते जो गहरे संबंधों को होना चाहिए, उन का संक्षिप्त संस्करण हैं । आप एक दोस्त, सहकर्मी, पति, पत्नी या पड़ोसी के साथ हैं, लेकिन आप वास्तव में उस बातचीत में अपने आप को पूरी तरह से नहीं ला रहे। आप भयभीत, बंद या अंतर्मुखी हैं - उसे एक चीज़ की तरह देख रहे हैं, उससे बात कर रहे हैं, खुद का केवल उथला हिस्सा सामने रखते हुए और उसका केवल उथला हिस्सा देखते हुए।

दूसरी ओर, मैं-तुम रिश्ते, व्यक्तिगत, प्रत्यक्ष, संवादात्मक होते हैं - कुछ भी छिपाया नहीं जाता। एक मैं -तुम संबंध तब होता है जब दो या दो से अधिक लोग, जब वे "पारस्परिक जोशपूर्ण बात-चीत" में लगे होते हैं, तो वे पूरी तरह से अपनी स्थिति में डूबे होते हैं, जब गहराई गहराई को पुकारती है, जब वे खुद को समर्पित कर रहे होते है और दूसरे को पूरी तरह से, एक बे-झिझक तरीके से अपने में समेट रहे होते हैं ।

एक डॉक्टर का अपने मरीज़ के साथ मैं-यह संबंध होता है जब वह उसे मरम्मत की ज़रूरत रखने वाली मशीन के रूप में देखता है। लेकिन पीटर डेमारको ने उन डॉक्टरों और नर्सों, जिन्होंने उनकी मरने वाली पत्नी की देखभाल की थी, को एक पत्र में मैं-तुम रिश्ते का वर्णन किया, जो “दी टाइम्स” में प्रकाशित हुआ था:

"कितनी बार आप लोगों ने मुझे गले लगाया और जब मैं टुकड़ों में बिखर रहा था, मुझे दिलासा दिलाया, या लौरा के जीवन और वो कैसी व्यक्ति थी, उसके बारे में पूछा, उसकी तस्वीरें देखने या उसके बारे में जो चीजें मैंने लिखी थीं, उन्हें पढ़ने का समय निकाला? कितनी बार आपने बुरी खबर को दयालु शब्दों के और अपनी आँखों में उदासी भरकर दिया?"

हमारी संस्कृति में हम ऎसी उक्तियाँ इस्तेमाल करते हैं जैसे अपने आप को खोजना, अपने जुनून को ढूंढना, खुद को प्यार करना ताकि आप औरों को प्यार कर पाएं। लेकिन बुबर ने तर्क दिया कि स्वयं के बारे में अलगाव से सोचना बेकार है। स्वयं का अस्तित्व केवल किसी अन्य के संबंध में ही है।

उन्होंने लिखा, "बच्चे में आत्मा का विकास अतुलनीय रूप से “तुम”के लिए लालसा के साथ बंधा हुआ है"। पूरे जीवन में, स्वयं किसी वार्तालाप से बाहर उभर कर आ रहा है, या तो एक कूर दम घोटने वाला या एक भरपूर संपूर्ण वाला: "सारा वास्तविक जीवन मिलाप है।"

आप जानबूझकर मैं-तुम के क्षणों को उत्पन्न करने पर नियंत्रण नहीं कर सकते। आप केवल उनके लिए अपने मन को खुला रख सकते हैं और उनके लिए उपजाऊ धरती उपलब्ध करा सकते हैं ...

बुबेर ने वास्तविक वार्तालाप को एक प्रकार के सामाजिक प्रवाह के रूप में वर्णित किया। शिक्षक और छात्र एक दूसरे से सीख रहे हैं। दर्शक और एक कलाकार अभिनय के एक प्रदर्शन में खो जाते हैं।

ये क्षण टिकते नहीं। यह "हमारे भाग्य की असाधारण निराशा" है कि “तुम” क्षण हमेशा “वह” क्षणों में खो जाते हैं। लेकिन विश्व का निर्माण ऐसे गहन क्षणों के दौरान हुआ है। बांधने की एक डोरी को मजबूत कर दिया गया है। जिस व्यक्ति ने “तुम” का अनुभव किया है वह भरपूर हो गया है और पूर्णता के करीब आ जाता है।

विचार के लिए कुछ मूल प्रश्न: आप “मैं-यह” और “मैं-तुम” के क्षणों के बीच के अंतर से क्या समझते हैं? क्या आप “मैं -तुम” के क्षण का कोई व्यक्तिगत अनुभव बाँट सकते हैं? आपको यह बात जानने में कि आप “मैं-यह” क्षण में हैं या “मैं-तुम” क्षण में, किस चीज़ से मदद मिलती है?

न्यूयॉर्क टाइम्स के लेख से उद्धृत: http://nyti.ms/2e8y2x1
 

Excerpted from the NY Times article: http://nyti.ms/2e8y2x1


Add Your Reflection

7 Past Reflections