Call Me by My True Names

Author
Thich Nhat Hanh
57 words, 139K views, 30 comments

Image of the Weekमुझे मेरे सच्चे नामों से पुकारो
- टिक नाट हान (१५ जुलाई, २०१५)

ये मत कहो कि मैं कल चला जाऊंगा
क्योंकि आज भी मैं बस पहुंच ही रहा हूँ

गहराई से देखो: मैं हर पल में जन्म लेता हूँ
बसंत ऋतु में किसी शाखा पर एक कली बनने के लिए,
एक नन्ही चिड़िया बनने के लिए, जिसके पंख अभी भी नाजुक हैं,
जो अपने नए घोंसले में गाना सीख रही है,
किसी फूल के हृदय में एक इल्ली (caterpillar) बनने के लिए,
एक रत्न बनने के लिए जो किसी पत्थर में छिपा है।

मैं अभी भी जन्म ले रहा हूँ, हँसने और रोने के लिए,
ताकि में डर सकूँ और आशाऐं कर सकूँ।
मेरे हृदय की लय ही उन सब चीज़ों का
जन्म और मृत्यु है, जो जीवित हैं।

मैं वो मेफ्लाइ हूँ जो नदी की सतह पर कायांतरित हो रही है,
और मैं वो चिड़िया हूँ जो, जब वसंत ऋतु आती है, समय से पहुंच कर
उस मेफ्लाइ को खाने पहुंच जाती है।

मैं वो मेंढक हूँ जो साफ़ तालाब में मज़े से तैर रहा है,
और मैं वो घास का सांप भी हूँ, जो चुपके से पहुंचकर,
उस मेंढक को खा जाता है।

मैं युगांडा का वो बच्चा हूँ, जो सिर्फ हड्डियों का ढांचा है,
मेरी टाँगें बांस की लकड़ी की तरह पतली,
और मैं वो हथियारों का व्यापारी हूँ, जो युगांडा को घातक हथियार बेच रहा है।

मैं वो बारह वर्षीय बच्ची हूँ, जो एक छोटी सी नाव पर शरणार्थी है,
जो एक समुद्री डाकू द्वारा बलात्कार किए जाने के बाद खुद को समुद्र में फेंक देती है,
और मैं वो समुद्री डाकू हूँ, जिसका मन अभी देखने और प्यार करने के काबिल नहीं है।

मैं उस पोलित ब्यूरो का सदस्य हूँ, जिसके हाथों में बहुत ताकत है,
और मेँ वो इंसान हूँ जिसे अपने लोगों के लिए, अपने 'खून का कर्ज” उतारना है,
जो एक बलात श्रम शिविर में धीरे-धीरे मर रहा है।

मेरी खुशी वसंत ऋतु की तरह है, इतनी गर्म कि जो जीवन के सभी क्षेत्रों में फूलों को खिला देती है,
मेरा दर्द आँसुओं की एक नदी की तरह है, इतनी भरपूर कि चार महासागरों को भर देती है।

मुझे कृपया मेरे सच्चे नामों से पुकारो,
ताकि मैं अपनी सभी चीखों और हँसी को एक साथ सुन सकूँ,
ताकि मैं देख सकूँ कि मेरे सुख और दुःख एक हैं।

कृपया मुझे मेरे सच्चे नामों से पुकारो,
ताकि मैं जाग सकूँ,
और ताकि मेरे मन के द्वार को खुला रखा जा सके,
करुणा के द्वार को।

विचार के लिए कुछ मूल प्रश्न: अपने सभी 'सच्चे नामों” से व्यापक संवेदना से आप क्या समझते हैं? क्या आप अपना कोई व्यक्तिगत अनुभव बाँटना चाहेंगे जहां आपको ऐसी संवेदना की अनुभूति हुई हो, अपने अंदर से या किसी और की ओर से? ऐसी कौनसी साधना है जो आपको ऐसी संवेदना का अनुभव करने में मदद करती है?

टिक नाट हान एक विश्व प्रसिद्ध वियतनामी ज़ैन बौद्ध भिक्षु, शिक्षक, लेखक, कवि और शांति कार्यकर्ता हैं। उन्हें मार्टिन लूथर किंग जूनियर ने नोबेल शांति पुरस्कार के लिए नामांकित किया था।
 

Thich Nhat Hanh is a world renowned Vietnamese Zen Buddhist monk, teacher, author, poet and peace activist. He was nominated for the Nobel Peace Prize by Martin Luther King, Jr.  


Add Your Reflection

30 Past Reflections