Surrender Your Data

Author
Michael Quattrone
29 words, 13K views, 8 comments

Image of the Weekअपने डेटा का त्याग कर दो

-माइकल क्वात्रोान (२२ अप्रैल, २०१५)

अपने डेटा का त्याग कर दो, और मैं तुम्हें ज्ञान दे दूँगा। अपने बैंक के खातों को खाली कर दो, और मैं तुम्हें दिखाता हूँ कि असली अर्थ क्या है। मनोरंजन से अपनी आँखें फेर लो, और उन्हें सौंदर्य की ओर घुमा लो । अपने हाई स्पीड इंटरनेट कनेक्शन का प्लग खींच डालो और मैं तुम्हें अनंत पल से जुड़वा दूँगा।

बाहर आ जाओ। एक ऎसा समुदाय है जो आप के साथ एक दायरे में खड़ा होने और अपनी आवाज उठाने की इंतज़ार कर रहा है। बाहर आओ, और हम मिलकर एक ऎसी जगह चलेंगे जहां हम पहले कभी नहीं गए हैं, लेकिन जो हमें याद है। ऐसी जगह में, सबसे पुरानी चीज़ें आपके ध्यान की परिपक्वता से नई बन जाएंगी, और वो सब पौराणिक कहानियाँ जिन्हें अब हम नहीं जानते, आग की ज़बान से सुनाई जाएंगी और आपके दिलोदिमाग पर छप जाएंगी।

आपने जीवन में प्रवेश करने की राह खोजने की कोशिश की है या उससे बच निकलने की? अब तक कैसा चल रहा है? लेकिन आपका दयावान दिल आपको माफ़ कर सकता है, भले ही वो कितने भी समय से बंद क्यों न पड़ा हो। आपने भले ही कितनी भी बार उसे नकार दिया हो, उसकी न सुनी हो, या न सुनने का बहाना किया हो। ये वही दिल है जो आपको यहां तक लेकर आया है। ये वही उदार दिल है जिसने आपके जीवन को चुनाव के इस क्षण पर, आत्मसमर्पण के इस महल में, प्यार की इस खतरनाक ऊंचाई पर लाकर खड़ा कर दिया है: आपका वो दिल जो इतना पागल था कि उसने आपके पाशविक शरीर में जन्म लेने की ठानी; आपका वो दिल जो आपके सारे झूठे पारिवारिक रूपों को काट डालेगा, और मानव उद्देश्य की खाल में अपने दांत गढ़ा देगा; वो दिल जो जीवन के रक्त पर जीता है; वो दिल जो जब देता तो - दोगुना, दसगुना, भगवानगुना - नए तरीके से, नए संकल्प के साथ, उस ढोल की आवाज़ की लय के साथ जिसने समय का आविष्कार किया।

यह वो चुनाव है जो "अभी या कभी नहीं” और “अभी और हमेशा” दोनों ही है। और आपसे सिर्फ इतना कहा जा रहा है कि आप हाँ कह दें । आपको हाँ इस तरीके से कहना होगा जैसे आपने कभी कोई शब्द पहले न कहा हो। ऐसे तरीके से जो भाषा और चुप्पी दोनों को तोड़ देता है। हां कहो, वो सबसे पुरातन प्रार्थना जो सबसे पुरातन देव को अर्पित की गयी; वो हाँ जिसने हर चीज़ की रचना की और जो हमें स्थिर रखती है; वो हाँ जो सिर्फ आप कह सकते हैं, और सिर्फ आप सुन सकते हैं; वो हाँ जो आपके शरीर के बीच से आकांक्षा और उमंग और भय से तरंगित होकर गुज़रती है; वो हाँ जो गूंजेगी, और आपको चैन नहीं लेने देगी, और आपको हद से ज़्यादा बदल देगी; वो हाँ जिसे आपकी आत्मा ने पहले से ही कह दिया है; वो गीत जिसने आपको पहले से ही रिझा रखा है; उस नाम की हाँ जो आपको स्वर्ग के द्वार दिया जाता है, क्योंकि ये वही जगह है जहां मैं आपको अभी मिल रहा हूँ।

यही वो दहलीज है जिसे आप पार कर रहे हैं।

विचार के लिए मूल प्रश्न: वो चुनाव जो "अभी या कभी नहीं” और “अभी और हमेशा” दोनों ही है, आप उससे क्या समझते हैं? क्या आप अपना कोई व्यक्तिगत अनुभव बांटना चाहेंगे जब आपको ऐसे चुनाव का सामना करना पड़ा हो? ऐसी कौन सी साधना है जो आपको निरंतर चलती गतिविधियों के बीच में इस चुनाव को याद रखने में मदद करती है?

माइकल क्वात्रोान एक गायक, गीतकार, और जिज्ञासु हैं जिनकी सबसे बड़ी जिज्ञासा और सबसे गहरा ज्ञान उनके भीतरी जीवन और बाहरी अभिव्यक्ति के बीच की दहलीज पर चमकते हैं। आप उनके बारे में और “हरथफायर” द्वारा जान सकते हैं।
 

Michael Quattrone is a singer, songwriter and seeker whose greatest curiosity and most profound learnings are sparked at the threshold between inner life and outward expression. You can learn more at Hearthfire.


Add Your Reflection

8 Past Reflections